ताज़ा खबर
 

कांग्रेस सचिव ने कहा- गुजरात चुनाव में पैसे लेकर मणिशंकर अय्यर ने दिया था बयान, पार्टी में कई झोलाछाप नेता

शशि थरूर के बयान को लेकर कांग्रेस में बगावत के सुर उभरने लगे हैं। पार्टी के राष्ट्रीय सचिव और पूर्व सांसद सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि बीजेपी जानबूझकर मणि शंकर अय्यर और शशि थरूर जैसे नेताओं से ऐन चुनाव के वक्त बयान दिलवाती है। उन्होंने कहा कि मणिशंकर अय्यर ने गुजरात चुनाव के वक्त पैसे लेकर बयान दिए थे।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

कांग्रेस सांसद शशि थरूर के विवादास्पद बयान के बाद पार्टी में विरोध के सुर उभरने लगे हैं। पूर्व सांसद और कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव सज्जन सिंह वर्मा ने विवादास्पद बयान दिया है। उन्होंने कहा कि पार्टी के अंदर कई झोलाछाप नेता मौजूद हैं। वरिष्ठ नेता ने ऐसे कई नेताओं का जिक्र करते हुए कहा कि मणिशंकर अय्यर ने गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान पैसे लेकर बयान दिया था। उन्होंने स्पष्ट तौर पर कहा कि यदि ऐसा नहीं होता तो 3 राज्यों में विधानसभा चुनावों के दौरान ऐसा बयान देने की क्या जरूरत थी। सज्जन सिंह वर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को तानाशाह करार दिया। उन्होंने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की जनआशीर्वाद रैली की पोल खोलने की भी बात कही है। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनावों को देखते हुए कांग्रेस ने नेताओं की बैठक बुलाई, जिसमें शरीक होने के लिए सज्जन सिंह वर्मा भी भोपाल पहुंचे। बैठक में टिकट वितरण को लेकर विचार-विमर्श किया गया। इसमें मध्य प्रदेश कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री भी शामिल हुए। बैठक 14 जुलाई को भी जारी रहेगी।

सज्जन सिंह के तेवर से बढ़ गई सरगर्मी: प्रत्याशियों के चयन के लिए आयोजित बैठक में सज्ज्न सिंह के तेवर अचानक से तल्ख हो गए। उन्होंने ताबड़तोड़ पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं पर गंभीर आरोप लगा दिए। उन्होंने कमेटी के सदस्यों के समक्ष झोलाछाप नेताओं को पार्टी से बाहर निकालने की मांग की। सज्जन सिंह ने कहा कि बीजेपी मणिशंकर अय्यर और शशि थरूर से जानबूझकर बयान दिलवाती है। इस तरह की बयानबाजी ऐन चुनाव के वक्त होती है, जिससे कांग्रेस पार्टी को नुकसान उठाना पड़ता है। इस बीच, स्क्रीनिंग कमेटी के प्रमुख मधुसूदन मिस्त्री ने कहा कि टिकट के लिए फार्मूला लगभग तय है और जो मापदंड तय किए गए हैं, उसी आधार पर पार्टी टिकट के दावेदारों को परखेगी और टिकट देगी। उन्होंने कहा कि कोटा परमिट के तहत टिकट नहीं दिए जाएंगे। कमेटी ने बैठक में आए सांसदों से ये भी सलाह मांगी कि दो बार के हारे नेताओं को टिकट दिया जाए या उनके बजाए किसी युवा को मौका मिले। हालांकि, मधुसूदन मिस्त्री ने वरिष्ठ नेताओं को भी टिकट देने के संकेत दिए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App