ताज़ा खबर
 

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बीजेपी के मंत्रियों को बताया कौआ, सुनें क्या कहा

मध्य प्रदेश के कोलारस में कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेताओं इशारो-इशारों में को कौआ करार दिया। वह 24 फरवरी को कोलारस में होने वाले विधानसभा के उपचुनाव को लेकर प्रचार कर रहे थे।

कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया।

मध्य प्रदेश के कोलारस में कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेताओं इशारो-इशारों में को कौआ करार दिया। वह 24 फरवरी को कोलारस में होने वाले विधानसभा के उपचुनाव को लेकर प्रचार कर रहे थे। कोलारस के अलावा मुंगावली सीट पर भी उपचुनाव होना है। ज्योतिरादित्य सिंधिया का बीजेपी नेताओं को कौआ बताने वाला वीडियो समाचार एजेंसी एएनआई ने ट्वीट कर शेयर किया है। करीब 19 सेकेंड के वीडियो में ज्योतिरादित्य सिंधिया की बात पर सभा में मौजूद लोगों की तालियों की गड़गड़ाहट भी सुनी जा सकती है। ज्योतिरादित्य सिंधिया वीडियो में कहते हुए सुनाई देते हैं- ”ये मंत्री लोग यहां आ रहे हैं, कोई उस डाल पर बैठा है, कोई उस डाल पर बैठा है, कांय कांय, कांय कांय…” बता दें कि कोलारस और मुंगावली में होने वाले उपचुनाव को लेकर चुनाव प्रचार गुरुवार (22 फरवरी) की शाम को थम गया। इस दिन कांग्रेस और बीजेपी दोनों की दलों के नेताओं ने चुनावी प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी।

HOT DEALS
  • Apple iPhone SE 32 GB Gold
    ₹ 19959 MRP ₹ 26000 -23%
    ₹0 Cashback
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback

स्थानीय मीडिया के अनुसार मुंगावली में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने 8 मंत्रियों के साथ प्रचार किया तो कांग्रेस की तरफ से दिग्गज नेता कमलनाथ प्रचार के लिए पहुंचे। सीएम शिवराज और उनके मंत्रियों ने राज्य में अपनी सरकार के दौरान किए गए विकास कार्यों को जनता के सामने गिनाया तो कांग्रेस की तरफ से कहा गया कि राज्य में किसान आत्महत्या क्यों कर रहे हैं? कमलनाथ ने राज्य में भाजपा सरकार में संविदा कर्मचारियों का भविष्य अंधेरे में बताया।

स्थानीय मीडिया के अनुसार कांग्रेस कार्यकार्ताओं ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को बताया कि भाजपा कार्यकर्ता जनता को डरा धमका रहे हैं, इस पर सिंधिया ने कहा कि अब जनता जागरुक हो चुकी है, वह वोट देकर जवाब देगी। कोलारस में 22 उम्मीदवार चुनावी अखाड़े में हैं तो मुंगावली में 13 सीटों को लिए चुनावी जंग है। अक्टूबर 2017 में कोलारस से विधायक रामसिंह का स्वर्गवास हो गया था और सितंबर 2017 में मुंगावली से विधायक महेंद्र सिंह कालूखेड़ा का निधन हो गया था। तब से दोनों सीटें खाली पड़ी थीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App