ताज़ा खबर
 

कांग्रेस विधायकों ने पंजाब विधानसभा के अंदर दिया धरना, स्टाफ ने काटी लाइट

सदन के कर्मचारियों द्वारा पावर काट दिया गया, जिसके चलते एसी और पंखे बंद रहे। विधायकों ने गर्मी से बचने के लिए पेपर फैन का इस्तेमाल किया।

Author चंडीगढ़ | September 13, 2016 19:29 pm
पंजाब विधानसभा के अंदर प्रदर्शन करते कांग्रेस सदस्य। (Photo Source: Twitter/Punjab Pcc)

पंजाब विधानसभा में सोमवार को उस समय हाई-वोल्टेज ड्रामा देखने को मिला जब स्पीकर द्वारा सदन की कार्रवाई को पूरे दिन के लिए स्थगित करने के बाद कांग्रेस के 32 विधायकों ने सदन के भीतर करीब तीन घंटों तक विरोध प्रदर्शन किया। दरअसल कांग्रेस के विधायक सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा कराने की मांग कर रहे थे जबकि स्पीकर चरनजीत सिंह अटवाल ने अविश्वास प्रस्ताव को सदन द्वारा ध्वनिमत से अस्वीकार किए जाने की घोषणा करते हुए सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी।

गौरतलब है कि सतलज-यमुना लिंक (एसवाईएल) नहर मामला, राज्‍य की बिगड़ती कानून-व्‍यवस्‍था, बढ़ते माफिया ग्रुपों और भ्रष्‍टाचार जैसे कुछ मुद्दों को उठाते हुए कांग्रेस सदन में अविश्‍वास-प्रस्‍ताव लाई थी। पंजाब विधानसभा अध्यक्ष चरनजीत सिंह अटवाल ने विपक्षी दल के सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को चर्चा के लिए मंजूरी दे दी थी। सोमवार को सदन में अविश्वास प्रस्ताव पर जमकर हंगामा हुआ। इस दौरान बीजेपी और अकाली दल के विधायक सदन छोड़कर बाहर चले गए और कांग्रेस विधायक विरोध प्रदर्शन करते हुए वहीं डटे रहे। सदन के कर्मचारियों द्वारा पावर काट दिया गया, जिसके चलते एसी और पंखे बंद रहे। विधायकों ने गर्मी से बचने के लिए पेपर फैन का इस्तेमाल किया। प्रदर्शन कर रहे विधायकों में चार महिलाएं भी शामिल थीं।

पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने धरना खत्म करने के लिए स्टाफ द्वारा पावर कट किए जाने की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा कि सरकार को चर्चा से भागना नहीं चाहिए। ऐसे समय में जब आम आदमी खुद को असुरक्षित महसूस कर रहा है, सरकार को चाहिए की वो विपक्ष का सामना करे। वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने कांग्रेस पर सदन में चर्चा न होने देने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि लगता है कि कांग्रेस केवल पब्लिसिटी के लिए अविश्‍वास प्रस्‍ताव लाने की इजाजत मांग रही थी और गंभीरता से नहीं सोचा था कि सरकार उनकी चुनौती को इतनी तत्‍परता से स्‍वीकार करेगी। अंत में चर्चा से भागने के लिए बहाने गढ़ रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App