ताज़ा खबर
 

राहुल गांधी की रैली में सचिन पायलट के समर्थकों का हंगामा, बोले- आने वाले चुनाव में जवाब देंगे

मंच पर भी राहुल गांधी और सचिन पायलट के बीच काफी दूरी रही। राहुल के बगल में सीएम अशोक गहलोत जरूर बैठे दिखाई दिए, लेकिन पायलट उनसे चार सीट दूर बैठे दिखाई दिए।

राजस्थान में किसानों की रैली में कांग्रेस नेता राहुल गांधी और सचिन पायलट के बीच दिखी दूरी। (फोटो- Twitter/INCIndia)

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में दो दिनों का राजस्थान का दौरा किया था। चार जिलों के अपने दौरे में राहुल ने पांच किसान सभाएं और कई अन्य जगहों का दौरा किया था। कांग्रेस को उम्मीद थी कि राहुल के इस दौरे से पार्टी कृषि कानून के मुद्दे पर हवा बनाने में सफल रहेगी। हालांकि, रैलियों में पार्टी का अंदरूनी झगड़ा ही खुलकर सामने आने लगा। राहुल की रैली में भी कांग्रेस में सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट के ग्रुप के बीच खेमेबाजी देखने को मिली।

रूपनगढ़ में तो खासतौर पर सचिन पायलट के समर्थकों ने राहुल गांधी की रैली में हंगामा किया। जैसे ही राहुल अपना भाषण खत्म करने के बाद काफिले के साथ रैली से बाहर निकले, वैसे ही पायलट समर्थकों ने सचिन पायलट जिंदाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिए। हंगामा कर रहे प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया कि सचिन पायलट को जानबूझकर किसान रैली से अलग-थलग रखा जा रहा है।

पायलट समर्थक बोले- अलग चुनाव में देख लेंगे: बता दें कि रूपनगढ़ रैली में राहुल गांधी खुद ही ट्रैक्टर चलाकर कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे थे। यहां मंत पर उनके साथ सीएम अशोक गहलोत और कुछ अन्य नेता नजर आए। गहलोत ने यहां भीड़ को संबोधित भी किया। पर पायलट के मंच पर मौजूद होने के बावजूद उन्हें बोलने का मौका नहीं मिला।

इसी को लेकर पायलट समर्थकों ने गुस्सा जाहिर किया। एक समर्थक ने कहा, “आज सचिन पायलट को मंच पर जगह नहीं दी गई। ये आने वाले चुनाव में हम बताएंगे।” गौरतलब है कि मंच पर भी राहुल गांधी और सचिन पायलट के बीच काफी दूरी रही। राहुल के बगल में सीएम अशोक गहलोत जरूर बैठे दिखाई दिए, लेकिन पायलट उनसे चार सीट दूर बैठे दिखाई दिए।

किसानों पर केंद्रित था पूरा कार्यक्रम: कांग्रेस के इस कार्यक्रम में किसान अपने-अपने ट्रैक्टर लेकर पहुंचे थे। वहां मंच भी बड़ी-बड़ी ट्रालियों को जोड़कर बनाया गया था। मंच पर बैठने के लिए कुछ नहीं था लेकिन गांधी के संबोधन के बाद वहां कुछ चारपाइयां रखी गईं। गांधी ने विशेष रूप से सजाई गई ऊंट गाड़ी पर चढ़कर लोगों का अभिवादन किया। इस अवसर पर गांधी का स्वागत गेहूं की बालियों का बना गुच्छ देकर किया गया।

Next Stories
1 कोरोना टीका 80 लाख लोगों को लगा: 66% लोगों में मामूली रिएक्शन, बुजुर्गों से ज्यादा युवाओं में- आईएमए
2 40 साल से भारत में रह रही पाकिस्तानी महिला, यूपी में चुनाव भी लड़ लिया, किसी को भनक तक न लगी
3 जम्मू-कश्मीरः पुलिस ट्रेनिंग पूरी करने वाले अफसरों को भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने पहनाए बैज, पूर्व ब्रिगेडियर बोले- ये नव फासीवाद की शुरुआत
ये पढ़ा क्या?
X