ताज़ा खबर
 

कांग्रेस मुख्यालय में मणिशंकर, सिद्धू बोले- प्यादा औकात भूल जाए तो कुचला जाता है

पार्टी हेडक्वार्टर में अय्यर की उपस्थिति ने बहुत सारे सवाल खड़े कर दिए हैं और उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई को लेकर भी अटकलें लगाई जा रही हैं। वहीं निलंबित नेता की उपस्थिति के मामले पर कांग्रेस के नेताओं का कहना है कि वह ऑल इंडिया कांग्रेस कमिटी के कोषाध्यक्ष मोतीलाल वोरा से मिलने आए थे।

नवजोत सिंह सिद्धू (Express File Photo/File)

कांग्रेस से निलंबित नेता मणिशंकर अय्यर को शुक्रवार के दिन पार्टी के मुख्यालय में देखे जाने पर पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्दू ने तंज कसते हुए उन्हें शतरंज का प्यादा कहा है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक सिद्दू ने कहा है, ‘अगर शतरंज की बिसात बिछी हो और प्यादा अपनी औकात भूल जाए तो कुचला जाता है।’ इसके अलावा उन्होंने अय्यर के मामले में लिए जाने वाला फैसला पूरी तरह से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर छोड़ दिया है। सिद्धू ने कहा, ‘ये हमारे जनरल राहुल जी के ऊपर है, वो जो फैसला करेंगे वो हमारा फैसला है।’

दरअसल, मणिशंकर अय्यर इस वक्त कांग्रेस से निलंबित हैं, लेकिन उन्हें शुक्रवार को पार्टी के मुख्यालय में देखा गया था। पार्टी हेडक्वार्टर में अय्यर की उपस्थिति ने बहुत सारे सवाल खड़े कर दिए हैं और उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई को लेकर भी अटकलें लगाई जा रही हैं। वहीं निलंबित नेता की उपस्थिति के मामले पर कांग्रेस के नेताओं का कहना है कि वह ऑल इंडिया कांग्रेस कमिटी के कोषाध्यक्ष मोतीलाल वोरा से मिलने आए थे। हालांकि इस मामले में अभी तक अय्यर की ओर से कोई बयान नहीं दिया गया है। आपको बता दें कि कोषाध्यक्ष होने के अलावा वोरा कांग्रेस की अनुशासनात्मक कमिटी के भी सदस्य हैं। एके एंटनी और सुशील कुमार शिंदे इस कमिटी के अन्य सदस्य हैं।

बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए नीच शब्द का इस्तेमाल किया था, जिसके बाद बीजेपी की ओर से काफी विरोध किया गया था। वहीं कांग्रेस ने भी इस मामले में तुरंत कार्रवाई करते हुए अय्यर की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया था। इसके अलावा हाल ही में अय्यर ने पाकिस्तान को लेकर भी एक विवादित बयान दिया था। उन्होंने कराची में हुए एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा था कि भारत और पाकिस्तान के बीच निरंतर और निर्बाध बातचीत से ही मुद्दे सुलझाए जा सकते हैं, पाकिस्तान ने इस नीति को स्वीकार कर लिया है, लेकिन वार्ता की नीति को भारत ने नहीं अपनाया। अय्यर ने इस पर दुख भी जताया था। उनके इस बयान के बाद कांग्रेस के अंदर से ही उनके विरोध में स्वर गूंजने लगे थे। कांग्रेसी नेता वी हनुमंत राव ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए राहुल गांधी से अय्यर को बर्खास्त करने की अपील की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App