ताज़ा खबर
 

अधीर रंजन चौधरी बोले- कांग्रेस के लिए ‘ब्रैंड इक्विटी’ है नेहरू-गांधी परिवार, किसी दूसरे के लिए पार्टी चलाना बेहद मुश्किल

कांग्रेस नेता ने कहा कि सोनिया गांधी पार्टी की डोर हाथ में नहीं लेना चाहती थीं लेकिन राहुल गांधी के इस्तीफा देने के बाद संगठन को ‘संकट’ में देख उन्होंने वरिष्ठ कांग्रेस पदाधिकारियों का अनुरोध स्वीकार कर लिया।

Author नई दिल्ली | Published on: August 17, 2019 3:57 PM
कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी का कहना है कि गांधी-नेहरू परिवार के बाहर के किसी व्यक्ति के लिए पार्टी का नेतृत्व करना मुश्किल होगा क्योंकि उनकी (परिवार की) एक ‘ब्रैंड इक्विटी’ है। चौधरी ने कहा कि कांग्रेस जैसी मजबूत विचारधारा वाली पार्टी ही बीजेपी के सांप्रदायिक रथ को रोक सकती है। चौधरी ने पीटीआई से बातचीत में कहा, ‘क्षेत्रीय दल जैसे काम कर रहे हैं, वे आने वाले दिनों में अपना महत्व खो देंगे। उनके महत्व खोने का मतलब है कि देश द्विध्रुवी राजनीति की ओर बढ़ जाएगा।’

National Hindi News, 17 August 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें

‘सोनिया नहीं बनना चाहती थीं कांग्रेस अध्यक्ष’: उन्होंने कहा, ‘द्विध्रुवी राजनीति की स्थिति में हम दोबारा सत्ता में आ सकते हैं। इसलिए कांग्रेस का भविष्य उज्ज्वल है। क्षेत्रीय दलों में वैचारिक प्रेरणा का अभाव है और कांग्रेस जैसी राष्ट्रीय पार्टी को व्यापक समर्थन है।’ कांग्रेस नेता ने कहा कि सोनिया गांधी पार्टी की डोर हाथ में नहीं लेना चाहती थीं लेकिन राहुल गांधी के इस्तीफा देने के बाद संगठन को ‘संकट’ में देख उन्होंने वरिष्ठ कांग्रेस पदाधिकारियों का अनुरोध स्वीकार कर लिया।
Jammu and Kashmir Issue Live Updates: कश्मीर से जुड़ी तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें

‘शाह-मोदी के बिना नहीं चल सकती बीजेपी’: चौधरी ने कहा, ‘सोनिया गांधी ने संकट के समय में पार्टी की बागडोर संभाली। उन्हीं के नेतृत्व में ही मुश्किल समय में 2004 और 2009 में दो बार कांग्रेस ने सरकार बनाई थी। गांधी परिवार से बाहर किसी व्यक्ति का पार्टी का नेतृत्व करना वास्तव में मुश्किल होगा। राजनीति में भी ‘ब्रैंड इक्विटी’ होती है। अगर आप अभी बीजेपी को देखेंगे तो क्या मोदी और शाह के बिना वह सुचारू रूप से चल सकती है? जवाब है ना?’

चौधरी ने कहा, ‘हमारी कांग्रेस पार्टी में भी गांधी परिवार हमारी ‘ब्रैंड इक्विटी’ है। इसमें कोई नुकसान नहीं है। हमारी पार्टी में किसी और पार्टी के पास वह बता नहीं है। यह एक कठोर वास्तविकता है।’ राहुल गांधी के इस्तीफा वापस नहीं लेने के अपने रुख पर कायम रहने के बाद कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) ने हाल ही में बड़ा कदम उठाते हुए पार्टी की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष नियुक्त किया। 2019 लोकसभा चुनाव में पार्टी की भारी हार की जिम्मेदारी लेते हुए राहुल गांधी ने इस्तीफा दे दिया था। चौधरी ने राहुल के कदम की सराहना करते हुए इसे एक उदार कदम बताया और कहा कि अन्य नेताओं को भी इससे सीखना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories