ताज़ा खबर
 

MP: कमलनाथ सरकार का ऐलान- प्रदेश में बनेगी 300 एयर कंडीशन स्मार्ट गोशालाएं

मध्यप्रदेश के पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव ने बताया कि मध्य प्रदेश में गोशालाओं के निर्माण के लिए विदेशी कंपनी से बातचीत की जा रही है। उन्होंने कहा कि पांच साल की अवधि में 300 स्मार्ट गोशालाएं बनाई जाएंगी।

Author भोपाल | June 15, 2019 6:09 PM
प्रतीकात्मक फोटो फोटो सोर्स-जनसत्ता

मध्यप्रदेश के पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव ने शनिवार (15 जून) को कहा कि कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस नीत प्रदेश सरकार राज्य में 300 स्मार्ट गोशालाएं बनाने के लिए एक विदेशी कंपनी से बातचीत कर रही है। यादव ने पीटीआई -भाषा को दिए इंटरव्यू में बताया, ‘हम मध्यप्रदेश में 300 स्मार्ट गोशालाएं बनाने के लिए एक विदेशी कंपनी से बातचीत कर रहे हैं। इसके लिए हम उनसे समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर करेंगे।’

हर साल बनाई जाएंगी 60 गोशालाएंः पशुपालन मंत्री ने कहा कि यह कंपनी प्रति वर्ष मध्यप्रदेश में 60 स्मार्ट गोशालाएं बनाई जाएंगी। इसके साथ ही पांच साल की अवधि में 300 स्मार्ट गोशालाएं बनाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि ये स्मार्ट गोशालाएं पूरी तरह से वातानुकूलित (एसी) होंगी और इनके लिए धन जुटाने की खातिर एनआरआई से संपर्क किया जा रहा है। बता दें कि यहां कलेक्टर्स को हर ब्लॉक में तीन गौशाएं खोलने के लिए जमीन खोजने के निर्देश दिए गए थे जिसका काम लगभग पूरा हो चुका है। यही नहीं गौशालाओं के निर्माण के लिए रोड मैप भी तैयार किया जा रहा है जिससे गौशाला का खर्च गौशालाएं ही वहन किया जा सके।
National Hindi News, 15 JUNE 2019 LIVE Updates: दिनभर की खबरें जानने के लिए यहां क्लिक करें

कांग्रेस ने ‘वचन पत्र’ में किया था ये वादाः यादव ने बताया कि इसके अलावा मध्यप्रदेश सरकार भी खुद 1,000 गोशालाएं बनाएगी। बता दें कांग्रेस ने पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव के लिए जारी अपने ‘वचन पत्र’ में वादा किया था कि यदि मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार आती है तो वह राज्य में गोशालाएं बनाएंगी। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश में गायों के संरक्षण के लिए ज्यादा से ज्यादा लोगों से जुड़ने का आग्रह किया।  उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य है कि पूरे देश में अधिक से अधिक गौशालाएं खुलें, फिर चाहें वह शासकीय स्तर पर हो या निजी स्तर पर।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App