ताज़ा खबर
 

पूर्वी, पश्चिमी व दक्षिणी दिल्ली सीट पर दुविधा में कांग्रेस, इस ऐप के जरिए मांगी कार्यकर्ताओं की राय

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नियंत्रण में चलाए जा रहे शक्ति मोबाइल ऐप के जरिए पूछी जा रही कार्यकर्ताओं की राय को लेकर दिल्ली के कांग्रेसी हलकों में हलचल तेज है और पार्टी के तमाम टिकट पाने के ख्वाहिशमंद नेता सक्रिय हो गए हैं।

Author April 13, 2019 4:10 AM
पीसी चाको और अभिषेक मनु सिंघवी प्रेसवार्ता करते हुए।

दिल्ली में आम आदमी पार्टी (आप) से चुनावी गठबंधन की संभावनाएं खत्म होती देख कांग्रेस ने यहां की सभी सात लोकसभा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने की तैयारी शुरू कर दी है। इसके तहत पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति ने जहां चार उम्मीदवारों के नाम तय कर दिए हैं, वहीं तीन उम्मीदवारों के नाम पर फैसला नहीं हो पाया है। इन तीन सीटों पर प्रत्याशी तय करने के लिए पार्टी ने अपने कार्यकर्ताओं की राय पूछी है। दिल्ली के कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको का एक आॅडियो संदेश शुक्रवार को पश्चिमी दिल्ली, दक्षिणी दिल्ली और पूर्वी दिल्ली के कार्यकर्ताओं के मोबाइल पर पहुंचा। इस आॅडियो क्लिप में कार्यकर्ताओं से पूछा गया है कि वे बताएं कि उनकी नजर में उनके संसदीय क्षेत्र में सबसे बेहतर प्रत्याशी कौन है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नियंत्रण में चलाए जा रहे शक्ति मोबाइल ऐप के जरिए पूछी जा रही कार्यकर्ताओं की राय को लेकर दिल्ली के कांग्रेसी हलकों में हलचल तेज है और पार्टी के तमाम टिकट पाने के ख्वाहिशमंद नेता सक्रिय हो गए हैं। कई कार्यकर्ताओं ने कहा कि उन्होंने अपने पसंदीदा प्रत्याशी के नाम पार्टी आलाकमान को बता दिए हैं। कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति ने गुरुवार रात नई दिल्ली से अजय माकन, चांदनी चौक से कपिल सिब्बल, उत्तर पूर्वी दिल्ली से जयप्रकाश अग्रवाल और उत्तर-पश्चिमी दिल्ली से राजकुमार चौहान के नाम तय कर दिए। हालांकि आधिकारिक तौर पर इन नामों की घोषणा अभी नहीं की गई है। बाकी तीन सीटों, पश्चिमी दिल्ली, दक्षिणी दिल्ली और पूर्वी दिल्ली के लिए उम्मीदवारों के नाम पर केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में सहमति नहीं बन पाई।

सूत्रों की मानें तो पार्टी ने पुराने उम्मीदवारों पर ही दोबारा दांव लगाने का फैसला किया है। इस लिहाज से पूर्वी दिल्ली सीट से संदीप दीक्षित को पार्टी का टिकट मिलना चाहिए, लेकिन उनके इनकार की खबरों के मद्देनजर उनकी मां व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित को यहां से चुनाव मैदान में उतारे जाने की तैयारी है। पश्चिमी दिल्ली से पूर्व सांसद महाबल मिश्रा टिकट के स्वाभाविक व प्रबल दावेदार हैं, लेकिन पिछले चुनाव में इस सीट पर भाजपा के टिकट पर प्रवेश वर्मा के चुनाव जीतने के बाद इस पर कांग्रेस की ओर से भी जाट उम्मीदवार देने की मांग तेज हो गई। इसी वजह से इस बार यहां से मशहूर पहलवान सुशील कुमार को टिकट देने की बात हो रही है। हालांकि कांग्रेस की ओर से सज्जन कुमार के भाई रमेश कुमार दक्षिणी दिल्ली संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ते रहे हैं, लेकिन पिछले चुनाव में वहां से भाजपा के टिकट पर रमेश बिधूड़ी के चुनाव लड़ने के बाद उस सीट पर कांग्रेस से भी किसी गुर्जर समुदाय के व्यक्ति को टिकट देने की बात शुरू हो गई।

पश्चिमी दिल्ली को लेकर कहा जा रहा है कि यहां से पार्टी सुशील पहलवान को टिकट दे सकती है। हालांकि सज्जन कुमार परिवार की अनदेखी भी उसके लिए मुश्किल है। खुद महाबल मिश्रा यहां से सबसे मजबूत दावेदार हैं तो डॉ योगानंद शास्त्री को भी यहां लाए जाने की चर्चा है और जाट नेता डॉ नरेश कुमार ने भी इस सीट पर अपना दावा ठोंका है। कार्यकर्ताओं से राय पूछे जाने की जानकारी मिलते ही शुक्रवार को ये सारे नेता सक्रिय हो गए। दावेदारी करने वाले एक नेता ने कहा कि दक्षिणी दिल्ली सीट पर पांच-सात फीसद जाट मतदाता हैं जबकि पश्चिमी दिल्ली में 11-12 फीसद हैं। बगल में उत्तर-पश्चिमी सीट पर 18 फीसद जाट मतदाता हैं। ऐसे में अगर पश्चिमी दिल्ली से जाट उम्मीदवार को उतारा गया तो उसका फायदा बगल की उत्तर-पश्चिमी सीट पर भी कांग्रेस को मिलेगा। दक्षिण दिल्ली संसदीय सीट पर गुर्जर नेता को चुनाव लड़ाने के मामले में कांग्रेस के पास विकल्प बहुत सीमित हैं। वह या तो महाबल मिश्रा को पश्चिमी दिल्ली के बदले यहां लाकर पूर्वांचल का कोटा पूरा कर सकती है या वरिष्ठ पार्टी नेता चतर सिंह को भी यहां से उतार सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App