ताज़ा खबर
 

NCRB रिपोर्ट पर राजनीति शुरू, प्रियंका ने कहा- महिलाओं के खिलाफ साल भर में 56 हजार मामले, फिर भी चुप योगी सरकार?

प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश में महिलाओं के साथ बढते अपराध पर सीएम योगी को निशाना बनाया है। उन्होंने कहा, ‘पूरे देश में महिलाओं पर सर्वाधिक अपराध उत्तर प्रदेश में हो रहे हैं। एक साल में 56,000 से ज्यादा और इसमें वो घटनाएं शामिल भी नहीं है, जिनकी रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई।'

Author रायबरेली | Published on: October 23, 2019 9:29 AM
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस फाइल फोटो)

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार को घेरते हुए कहा कि यह बहुत ही शर्मनाक है कि पूरे देश में महिलाओं के साथ हो रहे अपराधों वाली सूची में उत्तर प्रदेश सबसे ऊपर है। उन्होंने इस पर आगे बोलते हुए कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को इस बारे में कुछ करना चाहिए। बता दें कि प्रियंका अपनी मां सोनिया गांधी के लोकसभा क्षेत्र रायबरेली में नवनियुक्त पार्टी पदाधिकारियों की तीन दिवसीय वर्क शॉप में शामिल होने मंगलवार (22 अक्टूबर) की शाम रायबरेली को पहुंची थी। इस दौरान कांग्रेस महासचिव ने पत्रकारों से बातचीत में उत्तरप्रदेश में खराब कानून व्यवस्था की बात कही है।

प्रियंका गांधी- महिला अपराध में यूपी सबसे आगेः प्रियंका गांधी वाड्रा ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, ‘यह बहुत ही शर्मनाक है कि पूरे देश में महिलाओं के साथ हो रहे अपराधों वाली सूची के राज्यों में उत्तर प्रदेश सबसे ऊपर है, मुख्यमंत्री को इस बारे में कुछ करना चाहिए।’ इस बयान से पहले उन्होंने मंगलवार सुबह ट्वीट कर कहा था, ‘पूरे देश में महिलाओं पर सर्वाधिक अपराध उत्तर प्रदेश में हो रहे हैं। एक साल में 56,000 से ज्यादा और इसमें वो घटनाएं शामिल भी नहीं है, जिनकी रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई। क्या ये आंकड़ा इतना भी गंभीर नहीं कि मुख्यमंत्री जी इसका संज्ञान लेते?’ वहीं प्रियंका गांधी के इस ट्वीट के जवाब में प्रदेश सरकार के मंत्री और प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने एक बयान में कहा कि विपक्ष एनसीआरबी 2017 के अपराध आंकड़ों को जनता के बीच तोड़-मरोड़ कर पेश कर रहा है।

बीजेपी ने दिया प्रियंका गांधी को जवाबः सिद्धार्थ नाथ सिंह ने प्रियंका गांधी पर पलटवार करते हुए कहा कि विपक्ष, विशेष तौर पर प्रियंका गांधी वाड्रा बिना समुचित अध्ययन किए राजनैतिक रोटियां सेंकने का प्रयास कर रही हैं। सिंह ने कहा कि एनसीआरबी के आंकड़ों को समझने के लिए जनसंख्या के आधार पर अनुपात निकाला जाना चाहिए। सिंह ने कहा कि जिन प्रदेशों कि जनसंख्या अधिक है वहां पर अपराध भी अधिक घटित व पंजीकृत होते हैं।

Hindi News Today, 23 October 2019 LIVE Updates

सरकार का दावा- यूपी में महिलाएं सुरक्षितः राज्य सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि इस प्रकार क्राइम रेट ही अपराधों की सही स्थिति समझने के लिए वास्तविक संकेतक है। अपराध दर प्रदेश की प्रति लाख जनसंख्या के आधार पर निकाली जाती है। उन्होंने यह भी कहा कि योगी सरकार में महिलाओं की स्थिति काफी सुधरी और अच्छी हुई है। वर्तमान समय में प्रदेश की महिलाएं खुद को पूर्व की अपेक्षा अधिक सुरक्षित महसूस कर रही है।

एनसीआरबी के आंकड़े ने बताया महिला अपराध में बढ़ोत्तरीः गौरतलब है कि राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश भर में वर्ष 2017 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के 3,59,849 मामले दर्ज किए गए। महिलाओं के खिलाफ अपराधों में लगातार तीसरे साल भी बढ़त हुई है। बता दें कि एनसीआरबी के आंकड़े सोमवार (21 अक्टूबर) को जारी किए गए हैं। एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार, अधिकतम मामले उत्तर प्रदेश (56,011) में दर्ज किए गए। उसके बाद महाराष्ट्र में 31,979 मामले दर्ज किए गए।

पार्टी ने दिया नेताओं को ट्रेनिंगः पार्टी सूत्रों ने बताया कि रायबरेली में आयोजित वर्क शॉप में निर्णय लिया गया कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के दिखाए रास्ते पर ही कांग्रेस आगे बढ़ेगी। विपक्षी पार्टियों से मुकाबले के लिए धैर्य के साथ आक्रमकता बनाए रखनी है। भुएमऊ में चल रहे ट्रेनिंग शिविर में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्यों के साथ कई अन्य नेताओं को ट्रेनिंग दे रहे नेताओं ने उक्त बातें समझाई। बता दें कि पहले दिन पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा सिर्फ एक इग्जामिनर की तरह ट्रेनिंग के दौरान बैठी रही। ट्रेनिंग के दौरान नेताओं की ओर से बताई जा रही बातों को भी नोट किया गया।

विपक्ष के लिए तय की गई रणनितिः भुएमऊ गेस्ट हाउस में चल रहे ट्रेनिंग शिविर के पहले दिन प्रोग्राम हेड एआईसीसी के सचिव सचिन राव ने कमान संभाली है। प्रदेश अध्यक्ष लल्लू सिंह के साथ ही अन्य पदाधिकारियों व सदस्यों के साथ कई अन्य नेताओं ने ट्रेनिंग में हिस्सा लिया है। ट्रेनिंग सुबह दस बजे शुरू हो गया था। इसमें महात्मा गांधी की विचार धारा के साथ ही पार्टी की नीतियों के बारे में विस्तार से चर्चा हुई है। पार्टी को किस तरह अपनी लाइन में रहकर विपक्षियों को जगह देना है इसके लिए नेताओं को कई तरीके भी बताए गए।

ट्रेनिंग में पार्टी ने नेता में नई उर्जा भराः इस दौरान नेताओं ने भी ट्रेनिंग दे रहे इग्जामिनरों से कई प्रश्न भी किए व सुझाव भी दिए। प्रश्नों का जवाब देने के साथ ही इग्जामिनरों ने नेताओं को संतुष्ट किया और उनके सुझावों को नोट भी किया। ट्रेनिंग में नेताओं में नई उर्जा भरने का प्रयास किया गया। साथ ही संघर्ष में मजबूती के साथ खड़े रहने की नींव तैयार की गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Assam सरकार का फरमान, कहा- 2 से ज्यादा बच्चे पैदा किए तो नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी