ताज़ा खबर
 

एसवाईएल पर कांग्रेस-भाजपा की नीयत साफ नहीं: चौटाला

इनेलो नेता अभय चौटाला ने सतलज यमुना लिंक नहर (एसवाईएल) मसले पर भाजपा के साथ कांग्रेस की भी खिंचाई की। इनेलो के जिला स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन में चौटाला ने कहा कि इस मुद्दे पर दोनों पार्टी केवल वोट की राजनीति कर रही है, जबकि इनेलो जमीन पर लड़ाई लड़ रही है।

Author गुरुग्राम | January 22, 2017 2:02 AM

इनेलो नेता अभय चौटाला ने सतलज यमुना लिंक नहर (एसवाईएल) मसले पर भाजपा के साथ कांग्रेस की भी खिंचाई की। इनेलो के जिला स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन में चौटाला ने कहा कि इस मुद्दे पर दोनों पार्टी केवल वोट की राजनीति कर रही है, जबकि इनेलो जमीन पर लड़ाई लड़ रही है। चौटाला ने आरोप लगाया कि भाजपा और कांग्रेस एक सुनियोजित षड्यंत्र के तहत हरियाणा की जनता को एसवाइएल के पानी से वंचित रखना चाहती है। लेकिन इनेलो इस षड्यंत्र को सफल नहीं होने देगी और इनेलो कार्यकर्ता आगामी 23 फरवरी को इस्माईलपुर पहुंचकर एसवाईएल की खुदाई करके पानी हरियाणा में लाएंगे। उन्होंने कहा कि एसवाईएल मुद्दे पर कांग्रेस और भाजपा की नीयत साफ नहीं है। प्रधानमंत्री भी एसवाइएल के मुद्दे पर बात नहीं करना चाहते। इससे स्पष्ट है कि भाजपा नहीं चाहती कि हरियाणा के हिस्से का पानी उसे मिले। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार ने अब तक केवल 3 ही योजनाएं प्रदेश में बनाई हैं।

पहली योजना प्रदेश को बांटने की, जो कि जाट आरक्षण आंदोलन के आड़ में चलाई गई, लेकिन प्रदेश के लोग आपसी भाईचारा पसंद करते हैं और उन्होंने भाजपा को इस योजना में सफल नहीं होने दिया। दूसरी योजना प्रधानमंत्री फसल बीमा के नाम पर किसानों को लूटने की बनाई। इसके तहत बड़े-बड़े उद्योगपतियों, अंबानी जैसों को लाभ पहुंचाया गया। तीसरी योजना किसानों को धान व बाजरे की खरीद में लूटने की बनाई। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि एसवाईएल नहर की खुदाई के साथ-साथ कांग्रेस और भाजपा की जड़ें खोखली करने का काम करेंगे।

इनेलो के नेता एवं पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचंद गहलोत ने कहा कि भाजपा सरकार हर मोर्चे पर पूरी तरह विफल हो गई है और भाजपा ने लोगों से किया कोई भी वादा अभी तक नहीं निभाया जिसके कारण सरकार के प्रति समाज के हर वर्ग में भारी रोष और गुस्सा है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला हरियाणा के पक्ष में आने के बावजूद अभी तक नहर का निर्माण न होना सुप्रीम कोर्ट की अवमानना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App