ताज़ा खबर
 

CM येदियुरप्पा को मुस्लिम समुदाय से नफरत, ना जानें लोग क्यों देते हैं वोट; सिद्दारमैया का BJP पर हमला

पिछले साल तत्कालीन सत्तारूढ़ कांग्रेस सरकार और भाजपा के बीच टीपू सुल्तान की जयंती पर राजनीतिक विवाद छिड़ गया था।

Author बेंगलूरू | Published on: December 7, 2019 10:07 AM
Karnataka Assembly Bypolls Results 2019 LIVE Updates:सिद्धरमैया ने कांग्रेस विधायक दल के नेता पद से इस्तीफा दिया। फोटो: ANI

पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सिद्दारमैया ने शुक्रवार को राज्य में टीपू सुल्तान जयंती नहीं मनाने पर कर्नाटक के सीएम येदियुरप्पा की आलोचना की। कहा कि बीजेपी नेता केवल एक समुदाय के खिलाफ काम कर रहे हैं। होसुर में एक सभा को संबोधित करते हुए सिद्दारमैया ने कहा, “मुख्यमंत्री येदियुरप्पा को मुस्लिमों से नफरत है। मुझे नहीं पता कि उन्हें उनके धर्म से क्यों नफरत है। मैंने टीपू जयंती शुरू की थी, जैसे मैंने कनकदास जयंती और केंपेगौड़ा जयंती शुरू की थी। टीपू दूसरे राजाओं की तरह एक राजा थे और उन्होंने ब्रिटिश सरकार के खिलाफ चार युद्ध किए थे। उनके पिता भी एक राजा थे। येदियुरप्पा क्यों एक धर्म से नफरत करते हैं। यह उनका सांप्रदायिक होना दिखाता है।”

कहा लोग स्मार्ट होकर वोट दें : सिद्दारमैया ने अपने मुख्यमंत्रित्व काल में शुरू की गई कई योजनाओं के बारे में भी बताया और लोगों से “स्मार्ट तरीके से” वोट देने की अपील की। उन्होंने कहा, “जब मैं सीएम था तब मैंने कई भाग्य स्कीम शुरू की थी। उन्होंने क्या किया? लोगों को स्मार्ट होना चाहिए। मुझे नहीं पता कि लोगों ने उन्हें वोट क्यों दिया।”

Hindi News Today, 07 December 2019 LIVE Updates: बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

बीजेपी सरकार ने जुलाई में टीपू जयंती नहीं मनाने का निर्णय लिया था : कर्नाटक में बीजेपी सरकार ने टीपू जयंती नहीं मनाने का 30 जुलाई को निर्णय लिया। इस मामले में राज्य कैबिनेट की मीटिंग में सीएम बीएस येदियुरप्पा के निर्णय को कन्नड़ और संस्कृति विभाग को भेज दिया गया था। पिछले साल तत्कालीन सत्तारूढ़ कांग्रेस सरकार और भाजपा के बीच टीपू सुल्तान की जयंती पर राजनीतिक विवाद छिड़ गया था।

18वीं शताब्दी का राजा थे टीपू : पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार का विचार था कि मैसूर का 18 वीं शताब्दी का शासक एक “स्वतंत्रता सेनानी” थे, क्योंकि वह चौथे एंग्लो-मैसूर युद्ध में मारा गया था और इस तरह उसकी जयंती मनाई जानी चाहिए। इसको लेकर राज्य में अलग-अलग राय है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X