ताज़ा खबर
 

दिल्ली: टीसी लेने गए छात्र की पीट-पीटकर हत्या, पकड़े गए 8 में से 2 सहपाठी

टीसी देरी से मिलने के कारण गौरव ने अपनी मां और मौसी को वापस घर भेज दिया। जैसे ही गौरव स्कूल से बाहर आया। घात लगाकर बाहर खड़े उसी के आठ-दस सहपाठियों ने गौरव को घेर और जबरन स्कूल के सामने पार्क में ले गए।

मृत छात्र गौरव (17)।

दिल्ली के ज्योति नगर में एक छात्र की उसके ही सहपाठियों ने पीट-पीट कर हत्या कर दी। घटना के समय बुधवार को छात्र गौरव (17) अपनी मां और मौसी के साथ स्थानांतरण प्रमाण-पत्र (टीसी) पुराने स्कूल में लेने गया था। गौरव स्कूल से बाहर निकला ही था कि कुछ सहपाठियों ने उसे घेर लिया और पास के एक पार्क में ले गए। गौरव की इन लड़कों से पहले लड़ाई हुई थी। उसके बाद उसके सहपाठियों ने उसकी जमकर पिटाई कर दी। सूचना मिलने पर पुलिस उसे पास के अस्पताल लेकर गई, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। फिलहाल पुलिस ने दो छात्रों को पकड़ लिया है और उन से पूछताछ कर आगे की छानबीन कर रही है।

गौरव अपने परिवार के साथ बाबरपुर में रहता था। परिवार में मां सुमित्रा, पिता रजी अहमद, भाई गोविंदा और दो बहनें गरिमा और हेमलता हैं। करीब 10-12 साल पूर्व गौरव के पिता नरेश कुमार की मौत के बाद उसकी मां ने रजी अहमद से दूसरी शादी की थी। गौरव ने इसी साल राजकीय बाल विद्यालय पश्चिमी ज्योति नगर से दसवीं परीक्षा पास की थी। दसवीं के बाद उन्हें अपने स्कूल में आर्ट्स साइड मिल रही थी। पर वह कॉमर्स विषय में आगे की पढ़ाई करना चाहता था। इसीलिए बुधवार दोपहर वह अपनी मां व मौसी के साथ 3:30 बजे अपने पुराने स्कूल टीसी लेने गया था।

मां और मौसी को भेज दिया था घर
टीसी देरी से मिलने के कारण गौरव ने अपनी मां और मौसी को वापस घर भेज दिया। जैसे ही गौरव स्कूल से बाहर आया। घात लगाकर बाहर खड़े उसी के आठ-दस सहपाठियों ने गौरव को घेर और जबरन स्कूल के सामने पार्क में ले गए। जहां उन्होंने उसे लात-घूसों से पीटना शुरू कर दिया। इससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। इधर, उसकी मौसी के बेटे ने सुमित्रा को फोन कर गौरव के बारे में बताया। सूचना मिलते ही परिजन गौरव के स्कूल पर आ गए। उन्होंने उसे जीटीबी अस्पताल में भर्ती कराया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों ने लड़कों पर पिटाई लगाने के अलावा उसके गला घोंटने के भी आरोप लगाए है। परिजनों ने बताया कि एक सप्ताह पहले गौरव की उन छात्रों से लड़ाई हुई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App