ताज़ा खबर
 

कॉलेजियम से जजों की नियुक्ति चाहती है सरकार : प्रधान न्यायाधीश

टीएस ठाकुर ने कहा, ‘इस समय हाई कोर्टों में करीब 450 (न्यायाधीशों के पद रिक्त हैं। इन्हें भरा जाना है। इस साल 50 और रिक्तियां होंगी जिनके साथ कुल रिक्तियों की संख्या 500 हो जाएगी।’

Author हैदराबाद | April 10, 2016 00:16 am
मुख्य न्यायाधीश टीएस ठाकुर। (फाइल फोटो)

प्रधान न्यायाधीश टीएस ठाकुर ने हाई कोर्टों में न्यायाधीशों की जल्द नियुक्ति पर जोर दिया है। उन्होंने कहा है कि व्यवस्था पर पहले से ही इतने दबाव के बीच रिक्तियों की संख्या इस साल 500 हो जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार ने ‘पूर्व की प्रक्रिया’ (कॉलेजियम प्रणाली) के तहत नियुक्ति की प्रक्रिया बहाल करने की अपनी इच्छा व्यक्त की है और करीब 130 न्यायाधीशों की नियुक्ति का मुद्दा कानून मंत्रालय के पास विचारार्थ है।

प्रधान न्यायाधीश यहां ‘राज्य कानून सेवा प्राधिकरणों की 14वीं अखिल भारतीय बैठक’ का शनिवार को उद्घाटन करने के बाद बोल रहे थे। उन्होंने कहा, ‘संवैधानिक संशोधन (राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग या एनजेएसी से संबंधित) पर चुनौती पैदा होने के कारण नियुक्ति की प्रक्रिया में कुछ देरी हुई।’ ठाकुर ने कहा, ‘मामला सुलझने के बाद कानून मंत्री (डीवी सदानंद गौड़ा) ने प्रक्रिया के ज्ञापन में संशोधन की प्रक्रिया में समय लगने की संभावना को महसूस करते हुए मुझे एक पत्र लिखकर कहा कि सरकार पूर्व की प्रक्रिया के आधार पर प्रक्रिया बहाल करना चाहती है।’

उन्होंने कहा, ‘हम तुरंत सहमत हो गए और छह हफ्तों के अंदर हमने 163 नामों को मंजूरी दी जो राष्ट्रीय न्यायिक आयोग से जुड़े विवाद के कारण एक साल से हमारे पास लंबित थे।’ प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि हाई कोर्टों को भेजी गई करीब 90 स्थायी न्यायाधीशों की नियुक्ति और 40 नए न्यायाधीशों की नियुक्ति से जुड़ी सिफारिशों पर विचार किया जा चुका है और दूसरे विचारार्थ हैं। ठाकुर ने कहा, ‘मैं (कानून) मंत्री से जब भी मिलता हूं, वह मुझसे कहते हैं कि वह प्रक्रिया को तेज करने के लिए व्यक्तिगत रूप से कड़ी मेहनत कर रहे हैं। प्रधानमंत्री कार्यालय जा रहे हैं और लोगों को बताने की कोशिश कर रहे हैं कि प्रक्रिया ज्ञापन में संशोधन के माध्यम से प्रणाली में सुधार की प्रक्रिया जारी रह सकती है, न्यायपालिका में नियुक्तियों में देरी नहीं की जा सकती।

उन्होंने कहा, ‘इस समय हाई कोर्टों में करीब 450 (न्यायाधीशों के पद रिक्त हैं। इन्हें भरा जाना है। इस साल 50 और रिक्तियां होंगी जिनके साथ कुल रिक्तियों की संख्या 500 हो जाएगी।’ ठाकुर ने कहा, ‘प्रणाली पर काफी दबाव है। इसे लेकर मुझे आपको यह बताने में खुशी हो रही है कि सरकार इसे समझ रही है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App