ताज़ा खबर
 

ISKCON के पास मिड-डे मील का चावल, विजिलेंस की रेड में के 19.8 टन बरामद

विशाखापट्टनम में नागरिक आपूर्ति विभाग और विजिलेंस की टीम ने सागर नगर में इस्कॉन परिसर से छापा मारकर 19.8 टन चावल जब्त किया है। यह चावल मीड मे मील का बताया जा रहा है।

Author नई दिल्ली | June 20, 2019 9:28 AM
मिड डे मील का चावल दूसरी जगह भेजने में इस्कॉन के पुजारी की भूमिका संदिग्ध। (प्रतीकात्मक फोटो)

नागरिक आपूर्ति विभाग और विजिलेंस ने विशाखापट्टनम के सागर नगर स्थित इस्कॉन परिसर से 19.8 टन चावल जब्त किया है। यह चावल मिड डे मील का बताया जा रहा है। पुलिस के अनुसार इस चावल को लॉरी से काकीनाड़ा भेजा जा रहा था। विजिलेंस अधिकारी श्याम सुंदर प्रिया ने बताया कि इस मामले में इस्कॉन के एक पुजारी की भूमिका संदिग्ध है।

इससे पहले विभाग ने सूचना के बाद इस्कॉन परिसर में अचानक छापा मारा था। छापे में चावल के 396 बैग बरामद किए गए। छापे के समय इन चावलों को लॉरी में लादा जा रहा था। उस समय करीब 110 बैग को लोड किया जा चुका था। पूछताछ करने पर लॉरी मालिक जी. ईश्वर राव और उसके सहयोगी खलासी केवीएस राव ने बताया कि इस चावल को काकीनाड़ा ले जाना था।

हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, नागरिक आपूर्ति विभाग ने चावल के 396 बैग जो करीब 19.8 टन है और लॉरी को जब्त किया है। इस्कॉन की तरफ से कुछ स्कूलों को मिड डे मील का चावल सप्लाई किया जाता था। अधिकारियों के अनुसार मार्च 2019 के बाद से इनकी सप्लाई का कोई लेखाजोखा नहीं रखा गया है। शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ ही एमईओ ने भी फरवरी के बाद स्टॉक की जांच नहीं की थी।

अधिकारियों के आरोप में कोई सच्चाई नहींः इस्कॉन विशाखापट्टनम अध्यक्ष संबा दास ने कहा, ‘चावल के स्टॉक को श्रद्धालुओं ने दान में दिया था और यह चावल मिड डे मील के लिए नहीं था। इस्कॉन की तरफ से से 67 सरकारी स्कूलों के 13000 से अधिक छात्रों और 61 जीवीएमसी स्कूलों के 1850 छात्रों को मिड डे मील उपलब्ध कराया जाता है।’

उन्होंने कहा कि विजिलेंस अधिकारियों के तरफ से लगाए गए जवाबों में कोई सच्चाई नहीं है। वे लोग हमारा रजिस्टर और स्टॉक की स्थिति की जांच कर सकते हैं।

दान में मिला था चावलः मिड डे मिल के चावल को दूसरी जगह भेजे जाने के आरोप के संबंध में इस्कॉन के अधिकारियों ने कुछ भी कहने से इनकार किया है। अधिकारियों का कहना है कि जिस चावल को जब्त किया गया है उसके श्रद्धालुओं ने दान में दिया था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App