ताज़ा खबर
 

चाउमीन वाले की सॉस खाने के बाद बीमार हुआ बच्‍चा, फेफड़ा भी फटा, 2 हफ्ते वेंटिलेटर पर रहा

बच्चे के पिता का कहना है कि चाउमीन खाने के दौरान थोड़ी-सी सॉस उनके हाथ पर भी गिर गई थी, जिससे उनका हाथ भी जल गया। डॉक्टरों का कहना है कि यह अपनी ही तरह का पहना मामला है।

Author यमुनानगर | Updated: June 24, 2019 1:15 PM
प्रतीकात्मक फोटो (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

हरियाणा के यमुनानगर में सड़क किनारे लगने वाली रेहड़ी पर चाउमीन वाले की सॉस खाने से 3 साल के बच्चे के फेफड़े फटने का मामला सामने आया है। इस दौरान बच्चा बीमार हो गया और करीब 2 हफ्ते तक वेंटिलेटर पर रहा। बच्चे के पिता का कहना है कि उस दौरान थोड़ी-सी सॉस उनके हाथ पर भी गिर गई थी, जिससे उनका हाथ भी जल गया था। वहीं, डॉक्टर इसे अपनी ही तरह का पहला मामला बता रहे हैं। साथ ही, उन्होंने सॉस की ही वजह से यह हादसा होने की पुष्टि नहीं की है।

इतनी बिगड़ गई बच्चे की हालत: बताया जा रहा है कि चाउमीन की सॉस खाने के बाद बच्चे का शरीर जल गया और उसके फेफड़े खराब हो गए। परिजन उसे जब तक लेकर अस्पताल पहुंचे, उसका शरीर काला पड़ गया था। वहीं, बच्चे का ब्लड प्रेशर भी एकदम खत्म हो गया था। डॉक्टर ने बताया कि जब बच्चा अस्पताल आया, उसे सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। एक्स-रे में उसके दोनों फेफड़े फटे हुए मिले। बच्चे के पिता का आरोप है कि उसके बेटे ने चाउमीन में पड़ने वाली सॉस ज्यादा खा ली थी, जिससे यह हादसा हुआ।

National Hindi News, 24 June 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

16 दिन वेंटिलेटर पर रहा: डॉक्टरों ने बताया कि बच्चे का ऑपरेशन करके चेस्ट ट्यूब डाली गई हैं। वहीं, इलाज के दौरान 3 बार बच्चे के हार्ट ने काम करना ही बंद कर दिया था, जिसे काफी मुश्किल से रिवाइव किया गया। इस दौरान बच्चा करीब 16 दिन तक वेंटिलेटर पर रहा। धीरे-धीरे उसकी हालत में सुधार आया।

बच्चे के पिता का हाथ भी जला: बच्चे के पिता का आरोप है कि जब वह चाउमीन खा रहा था तो थोड़ी-सी सॉस उसके हाथ पर भी गिर गई थी, जिससे उसका हाथ जल गया। डॉक्टरों का कहना है कि एसिटिक एसिड की वजह से बच्चे के कई अंदरूनी अंग जल गए थे, लेकिन इसकी वजह सॉस ही थी, यह स्पष्ट नहीं है।

Bihar News Today, 24 June 2019: बिहार से जुड़ी हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

विशेषज्ञों ने दी यह जानकारी: विशेषज्ञों के मुताबिक, स्वाद बढ़ाने के लिए सॉस में एसिटिक एसिड मिलाया जाता है। ऐसी सॉस स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक होती है। चाट व चाउमीन विक्रेता भी इस एसिड का इस्तेमाल करते हैं। वहीं, गोलगप्पे के पानी में भी यह एसिड मिलाया जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 J&K: राजौरी सेक्टर में गहरी खाई में गिरा वाहन, 7 लोगों की हुई मौत
2 सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- वर्दी को कलंकित करने वालों को विभाग में जगह नहीं
3 आमों की मलिका ‘नूरजहां’ की विशेष मांग, एक फल के लिए लोग चुका रहे 1200 रुपये
ये पढ़ा क्‍या!
X