ताज़ा खबर
 

पांच साल पहले प्रेमिका की हत्या कर भागा शख्स बना हनुमान दास महाराज, पुलिस ने कथा सुनाते समय ही किया गिरफ्तार

लिव इन पार्टनर की हत्या कर यूपी भागे शख्स को मध्य प्रदेश में कथा वाचन करते पकड़ा गया।

प्रतीकात्मक तस्वीर (इंडियन एक्सप्रेस)

छत्तीसगढ़ में प्रेमिका की हत्या कर उत्तर प्रदेश भागा एक शख्स पांच साल बाद मध्य प्रदेश में भागवत कथा करते हुए पकड़ा गया। प्राप्त जानकारी के मुताबिक भिलाई के रहने वाले सुशील दुबे ने पांच साल पहले अपने साथ लिव-इन-रिलेशनशिप में रह रही रीता साहू की हत्या कर दी थी। 18 अक्टूबर 2013 को इस वारदात को अंजाम देने के बाद वह उत्तर प्रदेश भाग गया था। फिलहाल उसे पुलिस ने मध्य प्रदेश के छतरपुर में संत हनुमानदास महाराज बनकर कथा करते हुए पकड़ लिया।

…फिर पत्नी को छोड़ रीता के साथ रहने लगा
पुलिस के मुताबिक वारदात के दौरान आरोपी टैक्सी चलाता था। एक बार रीता को उसने लिफ्ट दी थी। उसी के बाद दोनों के बीच मुलाकातें होने लगीं। बाद में रीता साथ रहने की जिद करने लगीतो उसने किराए पर मकान ले लिया और दोनों साथ ही रहने लगे। धीरे-धीरे सुशील ने पत्नी को छोड़कर उसके साथ ही रहना शुरू कर दिया।

प्रयागराज में भी था एक युवती से संपर्क
भिलाई से भागने के बाद सुशील किसी रिश्तेदार के यहां गया था लेकिन उन्होंने ज्यादा दिन नहीं रूकने दिया तो ट्रकों पर क्लीनर का काम करने लगा। बाद में प्रयागराज गया और साधुओं की सेवा करने लगा। धीरे-धीरे उसे हनुमान दास महाराज का नया नाम मिल गया। इतना ही नहीं उसने वहां भी किसी युवती के साथ संपर्क में रहना शुरू कर दिया था।

…और यूं बन गया हनुमान दास महाराज
बताया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश भागने के बाद वह प्रयागराज गया जहां पहचान छिपाने के लिए संगम तट पर साधू बन गया था। भिलाई नगर सीएसपी के मुताबिक पुराने लंबित मामलों की समीक्षा के दौरान यह केस सामने आया। दोबारा जांच हुई तो भिलाई में रहने वाली पत्नी के कॉल को ट्रेस किया गया। इसी पड़ताल के दौरान एक नंबर पर बार-बार बात करने की बात सामने आई। बाद में पता चला कि यह नंबर किसी हनुमान दास महाराज के नाम पर दर्ज है। बताया जा रहा है कि वह करीब दो साल से परिवार के संपर्क में था। इसी के चलते पुलिस ने उस पर नजर रखी और बाद में छतरपुर में कथा सुनाते हुए गिरफ्तार कर लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App