ताज़ा खबर
 

मोदी सरकार ने तीन गुना बढ़ा दी सैलरी, 91 साल के इस गवर्नर ने किया लेने से इनकार

राज्यपाल ने स्टेट अकाउंटेंट जनरल को ख़त लिखकर कहा है कि उन्हें पुराने नियमों के तहत मिलने वाली सैलरी ही दी जाए। उन्होंने यह भी कहा कि गवर्नर ने कहा है कि अभी ऐसी कोई वजह नहीं है जिससे आधार पर उनकी सैलरी बढ़ाई जाए।

छत्तीसगढ़ के राज्यपाल बलरामजी दास टंडन फोटो सोर्स – फेसबुक

केंद्र सरकार ने छत्तीसगढ़ के गवर्नर की तनख्वाह तीन गुनी बढ़ा दी है। लेकिन दिलचस्प बात यह है कि 91 साल के गवर्नर बलरामजी दास टंडन ने यह सैलरी लेने से इनकार कर दिया है। दरअसल वित्त मंत्री अरुण जेटली ने साल 2018 के बजट में देश के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और राज्यों के गवर्नरों की सैलरी में भारी-भरकम इजाफा किया था। नए इजाफे के तहत राज्यों के गर्वनरों की एक महीने की सैलरी तीन लाख पचास हजार रुपये कर दी गई है। जबकि पहले गवर्नरों की सैलरी एक लाख दस हजार रुपये थी।

केंद्र सरकार ने बजट में गवर्नरों को टूर, हॉस्पीटैलिटी, मनोरंजन और फर्नीचर के लिए मिलने वाले भत्तों को लेकर नए दिशा-निर्देश जारी किये थे। लेकिन छत्तीसगढ़ के गवर्नर बलरामजी दास टंडन ने नई सैलरी लेने से इनकार कर दिया है। नई सैलरी 1 जनवरी 2016 से दी जानी थी। छत्तसीगढ़ राजभवन के प्रवक्ता ने बतलाया कि राज्यपाल ने स्टेट अकाउंटेंट जनरल को ख़त लिखकर कहा है कि उन्हें पुराने नियमों के तहत मिलने वाली सैलरी ही दी जाए। उन्होंने यह भी कहा कि गवर्नर ने कहा है कि अभी ऐसी कोई वजह नहीं है जिससे आधार पर उनकी सैलरी बढ़ाई जाए।

राजभवन के प्रवक्ता ने बतलाया कि स्टेट अकाउंटेंट जनरल ने भी गवर्नर को पुराने नियमों के तहत ही सैलरी देने की अनुमति दे दी है।  आपको बता दें कि जुलाई 2014 में टंडन छत्तीसगढ़ के गवर्नर बनाए गए थे।

कौन हैं बलरामजी दास टंडन ? बलरामजी दास टंडन 1953 में पहली बार अमृतसर म्यूनसिपल कॉरपोरेशन के कॉरपोरेटर बने थे। टंडन अमृतसर से चार बार पंजाब विधानसभा के सदस्य चुने गए। टंडन पंजाब सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं और उद्योग, स्वास्थ्य, श्रम और रोजगार जैसे अहम मंत्रालय भी संभाल चुके हैं। 1974 में भारत – पाकिस्तान बंटवारे के बाद बाद पाकिस्तान से भारत आने वाले लोगों को आधारभूत सुविधाएं मुहैया कराने वाले लोगों में उनकी भूमिका काफी अहम रही है। 1965 में भारत-पाकिस्तान युद्ध के वक्त भी अमृतसर के बॉर्डर इलाके में रहने वाले लोगों की हौसलाअफजाई करने वाले लोगों में टंडन की गिनती होती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App