ताज़ा खबर
 

सुकमा: सुरक्षा बलों की जवाबी कार्रवाई- 10 माओवादियों को मार गिराया, 5 को किया घायल

सोमवार (24 अप्रैल) को माओवादियों के हमले में 25 सीआरपीएफ जवान मारे गए थे।

EXpress File PHOTO

छत्‍तीसगढ़ के सुकमा में बुधवार (26 अप्रैल) को सुरक्षा बलों ने 10 माओवादियों को मार गिराया गया है। मुठभेड़ में 5 माओवादी घायल भी हुए हैं। एएनआई ने सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी है। यह मुठभेड़ सुकमा में किस जगह हुई, अभी तक इस विषय में कोई जानकारी नहीं मिली है।सीआरपीएफ के प्रभारी डीजी सुदीप लखटकिया ने बुधवार को कहा था कि बस्तर में रणनीति बदली जा रही है। उन्होंने कहा कि गलतियों की गंभीरता से समीक्षा की जा रही है। सीआरपीएफ के प्रभारी डीजी सुदीप लखटकिया ने यहां पत्रकारवार्ता में कहा, “बस्तर में रणनीति बदली जा रही है और गलतियों की गंभीरता से समीक्षा की जा रही है। नक्सलियों ने ग्रामीणों को ढाल बनाकर हमारे जवानों पर फायरिंग की। इसके कारण हमें भारी नुकसान उठाना पड़ा।” उन्होंने कहा, “हमारे जवानों का हौसला बिल्कुल भी नहीं टूटा है, बल्कि उनके मन में उबल रहा आक्रोश इस बात की गवाही दे रहा है। हमारे जवान किसी भी तरह के मुकाबले के लिए पूरी तरह तैयार हैं।”

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) को बुधवार को ही नया मुखिया मिला है। केंद्र सरकार ने बुधवार (26 अप्रैल) को 1983 बैच के आईपीएस अधिकारी, राजीव राय भटनागर को सीआरपीएफ का डीजी नियुक्‍त किया है। भटनागर एनसीबी के डायरेक्‍टर-जनरल पद पर तैनात रहे हैं।

बीते कुछ सालों में जिस तरह नक्सलियों ने छत्तीसगढ़ के बस्तर को अपने ऑपरेशन्स को अंजाम देने के लिए मुख्यालय की तरह उपयोग किया है उसके बाद अब राज्य व केंद्र सरकार भी बस्तर को एंटी नक्सल ऑपरेशन के लिए केंद्र बनाने की तैयारी कर रही है। सुकमा हमले के बाद केंद्र व राज्य सरकार ने इस तरह के संकेत दिए हैं कि एंटी नक्सल आपरेशन के लिए केंद्रीय सुरक्षा बल के बड़े अफसरों की तैनाती छत्तीसगढ़ में करने जा रही है।

राजनाथ सिंह ने केंद्र से वरिष्ठ अफसर की तैनाती की बात कही। इधर प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने भी साफ कर दिया है कि बस्तर में जवानों को इतना मजबूत बनाया जाएगा कि नक्सली हमले उन्हें तोड़ न सके। साथ ही मुख्यमंत्री ने बस्तर को नक्सलियों का मुख्यालय बताते हुए कहा कि अब नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन बस्तर से संचालित किए जाने की आवश्यकता है।

संबंधित वीडियो देखें: 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App