Chhattisgarh: हाथी ने महिला समेत दो लोगों को रौंद डाला, सूंड में लपेटकर जमीन पर पटका; फिर पैरों से कुचल कर मारा

डीएफओ ने बताया कि हाथी ने पहले कोडकू को सूंड में लपेटकर जमीन पर पटक दिया और फिर उन्हें पैरों से कुचल कर मार डाला।

Author कोरबा | Updated: August 11, 2019 1:34 PM
elephantप्रतीकात्मक फोटो फोटो सोर्स- जनसत्ता

Chhattisgarh Elephant Attack: छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले में अलग-अलग घटनाओं में हाथी ने दो लोगों को रौंद डाला, जिससे उनकी मौत हो गई। मरने वालों में एक महिला भी शामिल है। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। संभागीय वन अधिकारी (डीएफओ) भानु प्रताप सिंह ने बताया कि मवेशियों के साथ प्रतापपुर के जंगल में गये सोमनाथ कोडकू (45) का शुक्रवार को हाथी से सामना हुआ था, जिसके बाद यह हादसा हो गया। कोडकू प्रतापपुर के ही रहने वाले थे । यह स्थान कोरबा से करीब 200 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

डीएफओ ने बताया कि हाथी ने पहले कोडकू को सूंड में लपेटकर जमीन पर पटक दिया और फिर उन्हें पैरों से कुचल कर मार डाला। कोडकू जब घर नहीं लौटे तब कुछ स्थानीय लोगों ने वन विभाग से संपर्क किया, जिन्होंने तलाश अभियान चलाया। उन्होंने बताया कि शनिवार सुबह जंगल में उनका शव मिला। शनिवार को सरहरी गांव के पास के वनक्षेत्र में मशरूम इकट्ठा करने के दौरान कुछ ग्रामीणों पर उसी हाथी ने हमला किया। डीएफओ ने बताया कि समूह के बाकी लोग किसी तरह भागने में सफल रहे लेकिन रुक्मिणी चेरवा (50) उसकी चपेट में आ गयीं और हाथी ने उन्हें भी कुचलकर मार डाला।

National Hindi News, 11 August 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें

बकौल डीएफओ मृतकों के आश्रितों को तत्काल 25,000 रुपये की राहत राशि दी गई है और जल्द ही मुआवजे की शेष राशि भी दे दी जाएगी। उत्तरी छत्तीसगढ़ के सरगुजा, सूरजपुर, कोरबा, रायगढ़, जसपुर, बलरामपुर और कोरिया जिलों के घने जंगलों में मानव-हाथी के संघर्ष की घटनाएं सामने आती रहती हैं। बता दें कि हाथी के हमले के चलते लोगों भय का माहौल है।

Next Stories
1 ‘अपराधी थे जवाहरलाल नेहरू’, Article 370 और कश्मीर पर शिवराज सिंह का बड़ा बयान
2 Gujarat Floods Video: उफनते पानी में जवान ने यूं बचाई बच्चियों की जान, कंधे पर लेकर 1.5 किमी चला, CM रूपाणी ने की तारीफ
3 सोनिया गांधी को आई शीला दीक्षित की याद, बोलीं- सबसे बुरे दौर में हमेशा खड़ी रहती थीं मेरे साथ
यह पढ़ा क्या?
X