ताज़ा खबर
 

नेत्रदान की प्रक्रिया के बाद आंखें निकाल लावारिस छोड़ा शव, CM बघेल ने अफसरों को किया तलब

रायपुर में सरकारी अस्पताल में नेत्रदान के बाद शव से दुर्व्यहार करने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि शव से आंखे निकालने के बाद उसे फ्रीजर में रखने के बजाय मॉर्चुरी के बाहर लावारिस हालत में छोड़ दिया।

प्रतीकात्मक फोटो, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

छत्तीसगढ़ के रायपुर में सरकारी अस्पताल में नेत्रदान के बाद शव से दुर्व्यहार करने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि शव से आंखे निकालने के बाद उसे फ्रीजर में रखने के बजाय मॉर्चुरी के बाहर लावारिस हालत में छोड़ दिया। सुबह जब परिजनों ने शव को इस हालत में देखा तो भड़क गए और हंगामा शुरू कर दिया। मामले में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्वास्थ्य सचिव, स्वास्थ्य निदेशक और अंबेडकर अस्पताल के डीन को तलब करने की बात कही है।

दरअसल, टीटीबंध के रहने वाले 40 वर्षीय कौशल गुप्ता की हार्टअटैक से मौत हो गयी थी। जिसके बाद परिजनों ने नेत्रदान का निर्णय लिया और शव को अंबेडकर अस्पताल लेकर आये। यहां नेत्रदान के बाद डॉक्टरों ने पोस्टमार्टम की बात कही लेकिन समय ज्यादा हो जाने पर पोस्टमार्टम को अगले दिन करने का निर्णय लिया। लेकिन परिजनों का आरोप है कि अगले दिन जब वह अस्पताल पहुंचे तो शव मॉर्चुरी के बाहर पड़ा हुआ था और आंखें निकालने के बाद उस पर पट्‌टी भी नहीं बांधी गई थी। ये देखते ही परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया। परिजनों ने मामले में कार्यवाई की मांग की है।

इस घटना के बाद राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट कर कहा, ‘बेहद दुखद। ये तस्वीर हमें बदलनी ही होगी। दुख के इस क्षण में मैं मृतक के परिजनों के साथ हूं और अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूँ। जानकारी मिलते ही स्वास्थ्य सचिव, स्वास्थ्य निदेशक और अंबेडकर अस्पताल के डीन को तत्काल तलब कर दिया है।’

गौरतलब है कि परिजनों ने अंतिम संस्कार के बाद मामला दर्ज कराने की बात कही है। अंबेडकर अस्पताल की पीआरओ शुभ्रा सिंह ठाकुर ने इस मामले पर बोलते हुए कहा कि पोस्टमार्टम करने के बाद ही शवों को फ्रिजर में रखा जाता है। यह गाइड-लाइन का हिस्सा है। किसी भी प्रकार की अमानवीयता नहीं हुई है। फिलहाल अभी तक तो कोई शिकायत अस्पताल प्रशासन को नहीं मिली है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मिर्जा गालिब: इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया, वर्ना हम भी आदमी थे काम के
2 पंजाब : 7 साल पहले एसिड अटैक में खो दी थी आंखों की रोशनी, हिम्मत दिखा बनीं बैंकर
3 तो क्या 2019 चुनाव के लिए बीजेपी ने तय कर लिया है यह नारा? क्या मिलेगी 2014 जैसी कामयाबी?