scorecardresearch

छत्‍तीसगढ़: भारी बारिश के चलते गिर गई घर की दीवार, एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत

छत्तीसगढ़ में भारी बारिश के बाद दीवार ढहने से एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत हो गई।

छत्‍तीसगढ़: भारी बारिश के चलते गिर गई घर की दीवार, एक ही परिवार के पांच लोगों की मौत
अगस्त माह में भारी बारिश का दौर (PTI Photo)

छत्तीसगढ़ के कांकेर में बीती रात रविवार (14 अगस्त, 2022) को भारी बारिश के बाद घर की दीवार गिरने से एक ही परिवार के पांच सदस्यों की मौत हो गई। घटना पखंजूर क्षेत्र के एक गांव की है। वहीं भारी बारिश को लेकर अधिकारियों ने कहा कि छत्तीसगढ़ के कई जिलों में शनिवार शाम से भारी बारिश हुई है, जिसके परिणामस्वरूप महानदी, शिवनाथ और इंद्रावती जैसी नदियों का जल स्तर बढ़ गया है और निचले इलाकों के गांवों में बाढ़ आ गई है।

शनिवार शाम से रविवार के बीच बलौदाबाजार में 82.4 मिलीमीटर, दंतेवाड़ा में 63.1 मिमी, महासमुंद में 65.2 मिमी, जांजगीर-चांपा में 65.1 मिमी, बस्तर में 55.9 मिमी, रायगढ़ में 52.7 मिमी, नारायणपुर में 47.4 मिमी, बिलासपुर में 42.4 मिमी, रायपुर में 36.6 मिमी और बीजापुर में 36.5 मिमी बारिश हुई।

अधिकारियों ने बताया कि कोरबा जिले में भारी बारिश के सड़कें कट गई हैं। जिसके कारण पाली क्षेत्र में नाले उफान पर हैं, जबकि दंतेवाड़ा में बारसूर-चित्रकोट मार्ग बाधित हो गया है। यहां पानी पुलिया के ऊपर बह रहा था।

एक अधिकारी ने बताया कि धमतरी जिले में महानदी पर बने राज्य के सबसे बड़े बांध रविशंकर सागर (गंगरेल) से आज सुबह कुल 11,650 क्यूसेक (घन फुट प्रति सेकेंड) पानी छोड़ा गया। “पिछले 48 घंटों में बारिश प्रभावित क्षेत्रों में 120 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ), राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) और राज्य पुलिस की टीमों को राहत और बचाव के लिए तैनात किया गया है।

इस बीच रायपुर मौसम विज्ञान केंद्र ने रविवार दोपहर में कहा कि बस्तर, दंतेवाड़ा, नारायणपुर, कांकेर, गरियाबंद, धमतरी, बिलासपुर, कोरबा, महासमुंद, रायपुर, बलौदाबाजार और सुकमा में अगले 24 घंटों में भारी बारिश होगी। राज्य के राजस्व विभाग के अनुसार, इस साल 1 जून से शनिवार तक छत्तीसगढ़ में औसत 814.9 मिमी बारिश दर्ज की गई है। इस अवधि के दौरान सबसे अधिक 1814.9 मिमी वर्षा बीजापुर जिले में दर्ज की गई, जबकि सरगुजा जिले में सबसे कम औसत वर्षा 330.7 मिमी दर्ज की गई।

राजस्व और आपदा प्रबंधन के एक अधिकारी ने यहां बताया कि राज्य में एक जून से 13 अगस्त के बीच बारिश से जुड़ी घटनाओं और अन्य प्राकृतिक आपदाओं में कम से कम 64 लोगों की मौत हुई है। अधिकारी ने कहा कि मानसून से संबंधित 64 मौतों में से 36 की बिजली गिरने से, 22 की डूबने से और छह की सांप के काटने से मौत हुई। उन्होंने कहा, ‘एक जून से 13 अगस्त के बीच 55 घर पूरी तरह से नष्ट हो गए, 501 आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए, जबकि बारिश प्रभावित जिलों में 14 राहत शिविर बनाए गए हैं। बारिश ने 340 मवेशियों की भी मौत हुई है।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट