ताज़ा खबर
 

Central Vista Project मुद्दा उठाने पर Congress को चुनौती, तो छत्तीसगढ़ CM ने बंद कराया विधानसभा, मंत्री निवासों का निर्माण

छत्तीसगढ़ सरकार के इस कदम के माध्यम से कांग्रेस पार्टी ने केंद्र सरकार के समक्ष एक चुनौती खड़ी कर दी है।

छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल। (एक्सप्रेस फोटो)

छत्तीसगढ़ सरकार ने प्रदेश की राजधानी में विधानसभा भवन, राजभवन तथा मुख्यमंत्री और अन्य मंत्रियों के आवास बनाने का काम तत्काल प्रभाव से रोक दिया है। निर्माण में खर्च होने वाली रकम अब कोविड से लड़ने में लगाई जाएगी।

सियासी पंडितों का मानना है कि कांग्रेस ने इस कदम के जरिए केंद्र सरकार को सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट का काम रोकने की चुनौती दी है। उल्लेखनीय है दो दिन पहले कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी और विपक्ष के अन्य दिग्गज नेताओं ने सरकार को एक पत्र लिखा था, जिसमें कोविड त्रासदी के मद्देनजर सेंट्रल विस्टा पर काम रोकने की अपील की गई थी। पत्र में कहा गया था कि सरकार को सेंट्रल विस्टा पर खर्च करने की बजाए फ्री वैक्सीन और गरीबों के लिए मुफ्त राशन की व्यवस्था करनी चाहिए। सभी बेरोजगारों को प्रति माह छह हजार रुपए की मदद करने की मांग भी पत्र में की गई थी।

बता दें कि सेंट्रल विस्टा पर काम रुकवाने की विपक्ष की मांग के जवाब में भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कांग्रेस पर पलटवार किया था ओर कहा था कि पार्टी कांग्रेस शासित राज्य छत्तीसगढ़ में नए विधान भवन आदि का निर्माण क्यों नहीं रोक देती।

कांग्रेस ने भाजपा को जवाब देने में देर नहीं लगाई और गुरुवार शाम रायपुर में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने काम रोकने के आदेश दे दिए। थोड़ी ही देर बाद एक सरकारी बयान भी जारी कर दिया गया जिसमें कहा गया है कि चीफ मिनिस्टर के आदेश पर नवा रायपुर में चल रहा निर्माण कार्य तत्काल प्रभाव से रोक दिया गया है। बयान में कहा गया है कि निर्माण कार्य से संबद्ध सभी टेंडर रद्द कर दिए गए हैं। ये फैसले राज्य में कोविड के उफान को देखते हुए लिए गए हैं। सरकार ने उपर्युक्त निर्माण के अलावा राज्य में चल रहे अन्य बड़े प्रोजेक्टों पर भी काम रोक दिया है।

सरकार ने कहा है कि महामारी और संक्रमण का प्रसार रोकने के लिए राज्य में अब और सख्त कदम उठाए जाएंगे।
बयान के मुताबिक नवा रायपुर क्षेत्र में जो निर्माण रोके गए हैं वे इस प्रकार हैंः विधानसभा भवन, मुख्यमंत्री आवास, मंत्रियों और वरिष्ठ अधिकारियों के आवास तथा एक सर्किट हाउस। इन निर्माण कार्यों के लिए भूमिपूजन समारोह 25 नवंबर 2019 में किया गया था।

निर्माण कार्य रोके जाने के सिलसिले में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बाद में एक ट्वीट भी किया। इसमें उन्होंने लिखा है कि उनकी प्राथमिकता राज्य के निवासी हैं। उन्होंने कहा कि विधानभवन आदि तमाम निर्माण कार्यों का प्रारंभ जब किया गया था उस वक्त कोरोना का कहीं अता-पता न था। आज संकट का समय है। अतएव काम बंद किया जा रहा है। इस बीच सरकार ने बताया है कि वह चाहती है कि सारे काम किफायतसारी से किए जाएं। इसके लिए उसने प्रदेश के सभी महकमों के आला अफसरों को पत्र लिखा है।

रायपुर में उठाए गए इस कदम के माध्यम से कांग्रेस पार्टी ने केंद्र सरकार के समक्ष एक चुनौती खड़ी कर दी है। जिस तरह जेपी नड्डा की चुनौती स्वीकार कर छत्तीसगढ़ में काम रोक दिया गया, क्या केंद्र सरकार भी सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर काम रोक सकती है। ऐसा होने की संभावना क्षीण है। राजनीति के पंडित कहते हैं कि भाजपा ने अब इसे अपनी प्रतिष्ठा से जोड़ लिया है।

Next Stories
1 कोरोनाः गोवा में ऑक्सीजन संकट! 4 दिन में 74 मौतें, घिरे भाजपाई CM के खिलाफ GFP ने दी शिकायत
2 कोरोना काल में यहां हुए बेसहारा बच्चों का बीड़ा उठाएगी सरकार, जानें कैसे मिलेगी सहायता, क्या हैं आवेदन के जरिए?
3 कोरोना एक प्राणी है, उसे भी जीने का अधिकार- बोले पूर्व CM त्रिवेंद्र सिंह रावत; ट्रोल्स ने बताया “जोकर”
ये पढ़ा क्या?
X