तमिलनाडु में जारी है बारिश का प्रकोप, अभी भी नहीं खुल पाए हैं स्कूल और कॉलेज - Rain is Continues in Chennai, People are Facing Difficult Situations - Jansatta
ताज़ा खबर
 

तमिलनाडु में जारी है बारिश का प्रकोप, अभी भी नहीं खुल पाए हैं स्कूल और कॉलेज

मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने शुक्रवार को शहर और उपनगरों में कई जलमग्न इलाकों का दौरा किया था और इस बात पर जोर दिया था कि सरकार इस स्थिति से युद्ध स्तर पर लड़ रही है।

Author चन्नई | November 4, 2017 4:36 PM
बारिश का पानी कई जगहों पर घरों में भी चला गया है। (Photo- ANI)

तमिलनाडु के अन्य क्षेत्रों के अलावा इस महानगर और निकटवर्ती कांचीपुरम, तिरुवल्लुर जिले में बारिश अब भी जारी है। मौसम विज्ञान विभाग ने बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बने होने के कारण अभी बारिश जारी रहने का पूर्वानुमान लगाया है। बस और रेल सेवाओं में देरी और गंभीर जाम के कारण यात्रियों को लगातार परेशानी हो रही है। राज्य के कुछ इलाकों में हल्की बारिश, अन्य में मध्यम और कुछ में भारी बारिश हो रही है। स्कूल और कॉलेज जो 31 अक्तूबर से यहां बंद है, वह शनिवार को भी बंद रहे और कई विश्विवद्यालयों में परीक्षाएं भी स्थगित कर दी गई हैं।

राज्य स्तर की ‘राष्ट्रीय मेधा खोज परीक्षा’ जो शनिवार को होनी थी, वह अब 18 नवंबर को होगी। निगम के अधिकारी, जिला कलेक्टर (कांचीपुरम, तिरुवल्लुर) सहित अन्य अधिकारी मिलकर राहत कार्य में जुटे हैं। उत्तरी चेन्नई के एमकेबी नगर के कुछ हिस्सों, दक्षिण चेन्नई के मदिपक्कम इलाके और पश्चिम चेन्नई के कराप्पकम के पास पोरुर जैसे बाढ़ ग्रस्त इलाकों में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए बिजली काट दी गई थी। सोशल मीडिया पर लोगों ने बाढ़ग्रस्त इलाकों और यातायात परिवर्तन के बारे में लिखा और लोगों ने नन्मंगालम एवं पल्लिकराने में बाढ़ प्रभावित इलाकों में खाने के पैकेट और पानी बांटा।

मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने शुक्रवार को शहर और उपनगरों में कई जलमग्न इलाकों का दौरा किया था और इस बात पर जोर दिया था कि सरकार इस स्थिति से युद्ध स्तर पर लड़ रही है। वह यहां उप मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ पहुंचे थे। इस बीच, मौसम विज्ञान विभाग ने अपने एक बुलेटिन में कहा कि दक्षिण पश्चिमी बंगाल की खाड़ी, निकटवर्ती श्रीलंका और तमिलनाडु तट पर लगातार कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App