ताज़ा खबर
 

छत्तीसगढ़: आठ अधिकारियों के ठिकानों पर छापा

पीएमजीएसवाय के अधिकारी अरविंद राही के घर में छापे के दौरान दो मकानों के कागजात, एक डेस्टिनी-इन रेस्टोरंट चांटीडीह में, सीपत रोड में तीन मंजिला ग्लोबल काम्पलेक्स और 17 जमीनों के कागजात मिले हैं।

Author रायपुर | April 10, 2016 12:03 AM
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

छत्तीसगढ़ में एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम ने विभिन्न विभागों में पदस्थ आठ अधिकारियों के ठिकानों पर छापा मारकर करोड़ों रुपए की आय से अधिक संपत्ति का पता लगाया है। छापे के दौरान एक अधिकारी ने लगभग 40 लाख रुपए बाहर फेंक दिया था, जिसे एसीबी ने बरामद कर लिया है। एंटी करप्शन ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मुकेश गुप्ता ने शनिवार को बताया कि ब्यूरो की टीम ने रविशंकर विश्वविद्यालय के कुलसचिव केके चंदाकर, राजीव गांधी शिक्षा मिशन के संयुक्त निदेशक हरेराम शर्मा, नागरिक आपूर्ति निगम की अतिरिक्त संचालक दयामणि मिंज, घरघोड़ा नगर पालिका के सीएमओ अरुण शर्मा, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के कार्यपालन यंत्री शुभ नारायण पाठक, नगर निगम बिलासपुर के कार्यपालन यंत्री सुरेश बरुआ, रायगढ़ में पदस्थ पीएमजीएसवाय के अधीक्षण यंत्री अरविंद राही और जल संसाधन विभाग के एसडीओ अनिल राही के ठिकानों पर छापा मारकर करोड़ों रुपए की आयु से अधिक संपत्ति का पता लगाया है।

गुप्ता ने बताया कि सभी अधिकारियों के पास आय से अधिक संपत्ति होने की जानकारी मिली थी। इसे ध्यान में रखते हुए शनिवार को एसीबी की टीम ने सभी अधिकारियों के यहां एक साथ छापा मारा। वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि एसीबी ने पीएमजीएसवाय के कार्यपालन यंत्री शुभ नारायण पाठक के बिलासपुर और कोरबा स्थित मकानों में एक साथ छापा मारा। बिलासपुर के आवास में छापे के दौरान पाठक ने 40 लाख रुपए नोटों की गड्डियां तकिये के कवर में डालकर छत के पीछे फेंक दी थी, जिसे जब्त कर लिया गया। एसीबी ने पाठक के घर से विभिन्न जमीनों के कागजात बरामद किए हैं जिसमें बिलासपुर में तीन मकान, चांटीडीह में जमीन और उत्तरप्रदेश के बलिया शहर में एक होटल होने की जानकारी मिली है। उनके कोरबा के आवास से 2,30,000 रुपए नकद बरामद किया गया है। गुप्ता ने बताया कि रविशंकर विश्वविद्यालय के कुलसचिव केके चंदाकर के घर में छापे के दौरान अभी तक 40 लाख रुपए की एफडी, हाउसिंग बोर्ड में मकान, हीरापुर-रायपुर में एक मकान, गुमा में 20 एकड़ जमीन के दस्तावेज, बैंक में लॉकर, वाहन, सोने के जेवरात होने की जानकारी मिली है। इसका मूल्यांकन किया जा रहा है।

पीएमजीएसवाय के अधिकारी अरविंद राही के घर में छापे के दौरान दो मकानों के कागजात, एक डेस्टिनी-इन रेस्टोरंट चांटीडीह में, सीपत रोड में तीन मंजिला ग्लोबल काम्पलेक्स और 17 जमीनों के कागजात मिले हैं। सभी की जानकारी प्राप्त की जा रही है। राही के घर से सोने के जेवरात भी मिले हैं जिनका मूल्यांकन किया जा रहा है। नागरिक आपूर्ति निगम की अतिरिक्त संचालक दयामणि मिंज के घर छापे के दौरान पांच सूटकेस में करोड़ों रुपए की जमीनों और मकानों के कागजात मिले हैं जिसमें नेहरू नगर में 3000 वर्गफुट में दो मकान, परिजात कास्टल में मकान, बिलासपुर रानीगांव में 20 एकड़ का फार्म हाउस, तालपुरी भिलाई में एमआइजी मकान, रतनपुर रोड पर उनके नाम पर तीन एकड़ जमीन शामिल है। वहीं उनके घर से 40-50 बैंक के खाते, 60 लाख की एफडी, सोने चांदी के जेवरात और 1.50 लाख रुपए नगद बरामद किया गया है। नगर निगम बिलासपुर के कार्यपालन यंत्री सुरेश बरुआ के ठिकानों में छापे के दौरान उनके दो मकान और मटियारी गांव में ऐश ब्रिक्स की फैक्टरी होने की जानकारी मिली है। वहीं उनके घर से 1.40 लाख रुपए नगद, दो गाड़ियां, जमीनों के कागजात मिले हैं। वहीं आठ लाख और एक-एक लाख रुपए का चेक भी बरामद किया गया है। अधिकारी ने बताया कि सुरेश बरुआ के निवास पर छापे के साथ ही उसके बेटे अभय बरुआ के ड्राइवर मनोज के घर पर भी छापेमारी की गई है, जहां एक जर्मन निर्मित पिस्तौल और गोलियां भी मिली हैं।

राजपत्रित अधिकारी गवाहों के समक्ष ड्राइवर मनोज ने बताया है कि पिस्तौल अभय बरुआ ने उसे रखने के लिए दी थी। तलाशी के दौरान पिस्तौल मिलने पर संंबंधित जिले बिलासपुर के पुलिस इस संबंध में कार्रवाई करने को कहा गया है। एसीबी के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ने बताया कि नगर पालिका घरघोड़ा के सीएमओ अरुण शर्मा के बिलासपुर स्थित मकान में छापे के दौरान मकानों के कागजात प्राप्त हुए हैं, जिसमें 2400 वर्गफुट में मकान, 5000 वर्गफुट का एक मकान और 5000 वर्गफुट की 12 दुकानों का काम्पलेक्स शामिल है। 2000 और 4000 वर्गफुट पर बने मकानों पर सात लोग किराए पर रह रहे हैं। राजीव गांधी शिक्षा मिशन के संयुक्त निदेशक हरेराम शर्मा के ठिकानों में छापे के दौरान एसीबी को विशाल नगर में एक मकान, तोरवा में सात एकड़ जमीन, टाटीबंध में मकान, बोरियाकला में दो एमआइजी मकान और नया रायपुर में 2400 वर्गफुट के दो प्लाट के कागजात मिले हैं। अधिकारी ने बताया कि हरेराम शर्मा की ओर से अपने भाई रामजी शर्मा के साथ कोयले के कारोबार में भी निवेश किए जाने और हैदराबाद में निवेश की भी जानकारी मिली है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App