ताज़ा खबर
 

यूपी: मंत्री के जिला पंचायत अधिकारी को धमकाने का ऑडियो वायरल, अखिलेश ने किया बर्खास्‍त

आरोप है कि आदेश न मानने के लिए उन्‍होंने डीपीआरओ को धमकाया, बल्‍क‍ि डीएम के लिए अपमानजनक शब्‍दों का इस्‍तेमाल किया।

Author लखनऊ | June 9, 2016 11:39 am
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव। (पीटीआई फाइल फोटो)

उत्‍तर प्रदेश मद्य निषेध बोर्ड के चेयरमैन और दर्जा प्राप्‍त राज्‍यमंत्री कुलदीप उज्‍जवल को सीएम अखिलेश यादव ने बुधवार को बर्खास्‍त कर दिया। इससे पहले एक ऑडियो क्‍ल‍िप वायरल हो गया था, जिसमें वे कथित तौर पर बागपत जिले के जिला पंचायत राज ऑफिसर (DPRO) को धमकी देते सुनाई देते हैं। उन पर आरोप है कि आदेश न मानने के लिए उन्‍होंने डीपीआरओ को धमकाया, बल्‍क‍ि डीएम के लिए अपमानजनक शब्‍दों का इस्‍तेमाल किया। 2017 में होने वाले विधानसभा चुनावों में उज्‍जवल बागपत से पार्टी कैंडिडेट भी हैं। इस बीच, डीपीआरओ सर्वेश कुमार पांडे ने पंचायती राज डिपार्टमेंट के प्रिंसिपल सेक्रेटरी चंचल तिवारी को चिट्ठी लिखकर जान की धमकी के मद्देनर ट्रांसफर की मांग की है।

सूचना विभाग के मुख्‍य सचिव नवनीत सहगल ने कुलदीप उज्‍जवल को बर्खास्‍त किए जाने की पुष्‍ट‍ि की। हालांकि, इस कार्रवाई के लिए कोई आधिकारिक कारण नहीं बताया गया। वहीं, द इंडियन एक्‍सप्रेस से बातचीत में उज्‍जवल ने कहा, ‘मुझे दुख है कि पार्टी से किसी ने भी मुझसे बात नहीं की और इतना बड़ा कदम उठा लिया गया। यह मेरे खिलाफ साजिश है। मुझे उस ऑडियो क्‍लि‍प की प्रामाणिकता पर संदेह है, जो सोशल मीडिया में सर्कुलेट हो रहा है। किसी ने शिकायत नहीं की कि मैंने धमकी दी है। क्‍लि‍प से छेड़छाड़ की गई है और इसकी जांच की जानी चाहिए।

उज्‍जवल ने आरोप लगाया कि जिला स्‍तर के अफसर ग्राम प्रधानों के फंड रोककर बैठे हैं और वे स्‍थानीय लोगों की आवाज उठा रहे थे। उन्‍होंने दावा किया कि न तो उन्‍होंने अपमानजनक भाषा का इस्‍तेमाल किया और न ही किसी अफसर को धमकी दी है। वहीं, डीपीआरओ सर्वेश कुमार पांडे ने द इंडियन एक्‍सप्रेस से बताया, ‘ऐसा पहली बार हुआ कि उन्‍होंने धमकी दी। चूंकि उन्‍होंने डीएम को भी गालियां दीं, इसलिए मैंने उनकी शिकायत की है। हालांकि, मंत्री के खिलाफ एक्‍शन लिया गया है, मुझे अपनी जान का खतरा सता रहा है।’ पांडे ने दावा किया कि मंत्री अपने दो लोगों को ग्राम सचिव बनवाना चाहता थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App