अमेठी में एक दुकान में लस्सी पीने पहुंची स्मृति ईरानी, दुकानदार से पूछा- कभी कोई गांधी परिवार से आया

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि आजादी के बाद से जो परिवार अमेठी से चुनकर दिल्ली जाता रहा और यहीं की बदौलत अपनी राजनीति को चमकाता रहा, उसने अमेठी के लोगों के लिए पीने के पानी तक की व्यवस्था नहीं की।

smriti irani, amethi
अमेठी में लोगों को संबोधित करने के दौरान केंद्रीय स्मृति ईरानी ने कांग्रेस सांसद राहुल गांधी और गांधी परिवार पर जमकर हमला बोला। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

शनिवार को अपने दो दिवसीय दौरे पर अमेठी पहुंची केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी लस्सी पीने के लिए शहर की एक मशहूर दुकान पर भी पहुंची। इस दौरान उन्होंने दुकानदार से पूछा कि क्या गांधी परिवार से कोई आपके दुकान पर लस्सी पीने आया था। स्मृति ईरानी के इस सवाल पर दुकानदार ने भी जवाब देते हुए कहा कि हां, प्रियंका गांधी और राहुल गांधी दोनों आए हैं।

दरअसल अपने अमेठी दौरे पर व्यस्त कार्यक्रमों के बीच केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी अमेठी की मशहूर लस्सी का लुत्फ़ उठाने के लिए मशहूर अशरफी लाल लस्सी कॉर्नर पर पहुंची। लस्सी पीने के दौरान स्मृति ईरानी ने लस्सी दुकानदार से भी बात की। बातचीत के दौरान स्मृति ईरानी ने दुकानदार से पूछा कि क्या आपकी दुकान पर लस्सी पीने के लिए कभी कोई गांधी परिवार से आया था। इसपर दुकानदार ने भी जवाब देते हुए कहा कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी दोनों  ही लस्सी पीने के लिए आए हैं।

शनिवार को अपने अमेठी दौरे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने ऑक्सीजन प्लांट, कंप्यूटर लैब और नवीन हाईस्कूल का उद्घाटन किया। अमेठी में आयोजित कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करने के दौरान स्मृति ईरानी ने कांग्रेस सांसद राहुल गांधी और गांधी परिवार पर जमकर हमला भी बोला। स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी पर अमेठी के विकास को नजरअंदाज करने का आरोप भी लगाया।

स्मृति ईरानी ने कहा कि आजादी के बाद से जो परिवार अमेठी से चुनकर दिल्ली जाता रहा और यहीं की बदौलत अपनी राजनीति को चमकाता रहा, उसने अमेठी के लोगों के लिए पीने के पानी तक की व्यवस्था नहीं की। अमेठी को सभी सुविधाओं से वंचित रखा गया। यहां तक कि ऑक्सीजन प्लांट की भी व्यवस्था नहीं की गई। लेकिन आज अमेठी ऑक्सीजन के क्षेत्र में पूरी तरह से आत्मनिर्भर है।

इस दौरान स्मृति ईरानी ने यह भी कहा कि अमेठी मेरा घर है, परिवार है और परिवार की देखभाल कैसे की जाती है यह मुझे पता है। मैं जो कहती हूं वह करती हूं। मैं अमेठी में रहूं या अमेठी के बाहर रहूं। लेकिन मैं हर पल अमेठी की खबर रखती हूं. प्रशासन के संपर्क में रहती हूं और मैंने अधिकारियों से कहा है कि अमेठी के लोगों को कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। 

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट