पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हुई हिंसा के मामले में TMC नेता के घर पर CBI का छापा, मोबाइल समेत कई दस्तावेज जब्त

CBI के अधिकारियों की एक टीम ने चुनाव के बाद हिंसा के मामलों की जांच के तहत मंगलवार को पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में तृणमूल कांग्रेस (TMC) नेता ललन घोष के घर पर छापा मारा।

Mamata Banerjee TMC
ममता बनर्जी की पार्टी के नेता ललन घोष के घर CBI ने मारा छापा। फाइल फोटो- Source- Indian Express

CBI के अधिकारियों की एक टीम ने चुनाव के बाद हिंसा के मामलों की जांच के तहत मंगलवार को पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में तृणमूल कांग्रेस (TMC) नेता ललन घोष के घर पर छापा मारा। यह जानकारी एजेंसी के सूत्रों ने दी। सूत्रों ने बताया कि जांच दल ने जिले के इलामबाजार थानाक्षेत्र के गोपालपुर गांव का दौरा किया, जहां दो मई को विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के कुछ देर बाद ही भाजपा कार्यकर्ता गौरव सरकार की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी।

जांच दल ने वहां पर घोष के घर पर छापेमारी की। उन्होंने बताया कि TMC नेता के घर से एक मोबाइल फोन समेत कई दस्तावेज जब्त किए गए। केंद्रीय एजेंसी ने अब तक 34 FIR दर्ज की हैं और चुनाव बाद हिंसा के मामलों में तीन गिरफ्तारियां की हैं, जिसमें से दो नादिया में और एक उत्तर 24 परगना में की गई है। कलकत्ता हाई कोर्ट ने 19 अगस्त को आदेश दिया था कि मामले में NHRC (राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग) की रिपोर्ट को ध्यान में रखते हुए विधानसभा चुनाव बाद कथित बलात्कार और हत्या के मामलों की जांच CBI द्वारा की जाए।

पश्चिम बंगाल सरकार ने हाई कोर्ट के उस आदेश को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है, जिसमें मामलों की अदालत की निगरानी में सीबीआई जांच का निर्देश दिया गया था।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पश्चिम बंगाल में चुनाव के नतीजों के बाद हिंसा की कई घटनाएं सामने आई थी। केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा पेश एक रिपोर्ट के अनुसार राज्य में 15 हजार से ज्यादा हिंसा की घटनाएं हुई थीं, जिसमें दो दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी। रिपोर्ट में 7 हजार महिलाओं के साथ छेड़खानी की बात भी कही गई है। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी के अनुसार सिक्किम हाई कोर्ट के पूर्व जस्टिस (रिटायर्ड) प्रमोद कोहली की अगुवाई वाले सिविल सासाइटी ग्रुप “कॉल फॉर जस्टिस” की रिपोर्ट में कहा गया है कि चुनाव बाद हिंसा पूरे राज्य में हिंसा हुई, इसकी शुरुआत दो मई की रात को हुई, जब विधानसभा चुनाव के नतीजों का ऐलान हुआ था।

यह रिपोर्ट केंद्र सरकार को सौंपी गई थी जिस पर अध्ययन किया जा रहा है। रिपोर्ट के अनुसार राज्य के 16 जिले हिंसा की चपेट में आए थे। कई लोगों को हिंसा के कारण पश्चिम बंगाल छोड़कर, असम बिहार और झारखंड में जाकर शरण लेनी पड़ी थी।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।