ताज़ा खबर
 

CJM रहते पत्नी का कत्ल करने के आरोप में सिविल जज गिरफ्तार, तीन साल की जांच के बाद सीबीआई ने पकड़ा

गीतांजलि के भाई प्रदीप अग्रवाल ने आरोप लगाया था कि 2007 में बहन के विवाह पर भारी धनराशि खर्च करने के बावजूद रवनीत उसके साथ बुरा बर्ताव करता था तथा नकदी की मांग करता था।

गीताजंली के माता-पिता। (Express photo by Jaipal Singh)

सीबीआई ने गुड़गांव में  सिविल जज रहे रवनीत गर्ग को करीब तीन वर्ष पहले हुई उनकी पत्नी की हत्या के मामले में गिरफ्तार किया है। सिविल जज की पत्नी गीताजंली की 2013 में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी।

सीबीआई के प्रवक्ता ने अपने बयान में कहा, ‘गुड़गांव के तत्कालीन मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट(सीजेएम) को उनकी पत्नी गीतांजलि गर्ग की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई हत्या के मामले में चल रही जांच के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है। गीतांजलि गर्ग का गोलियों से छलनी शरीर 17 जुलाई 2013 को पुलिस लाइंस में मिला था।’ सीबीआई प्रवक्ता ने कहा कि इस मामले में हरियाणा सरकार के अनुरोध और भारत सरकार की अधिसूचना के बाद मामला दर्ज किया गया था।

प्रवक्ता ने आगे बताया कि पहले 20 जुलाई 2013 को गुड़गांव के सिविल लाइंस पुलिस थाने में मृतक के भाई की शिकायत पर तीन व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। जांच सीबीआई को सौंपे जाने के बाद केंद्रीय जांच एजेंसी ने मामले को अपने हाथ में ले लिया था।

सीबीआई प्रवक्ता ने बताया कि गिरफ्तारी के बाद आरोपी जज को गुरूवार को पंचकुला में सीबीआई मामलों के विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने रवनीत को पांच दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया। सीबीआई इस मामले में लगभग तीन वर्ष बाद रवनीत गर्ग को गिरफ्तार किए जाने के पीछे की वजह पर चुप्पी साधे रही।

Read Also: अब दो नहीं, छह लाख तक सालाना आय वालों को स्मार्टफोन देगी यूपी सरकार

गीतांजलि के भाई प्रदीप अग्रवाल ने आरोप लगाया था कि 2007 में बहन के विवाह पर भारी धनराशि खर्च करने के बावजूद रवनीत उसके साथ बुरा बर्ताव करता था तथा महंगे उपहार और नकदी की मांग करता था।

Next Stories
1 नवजोत कौर सिद्धू ने पहली बार किया AAP पर कटाक्ष, अब तक घोषित उम्‍मीदवारों पर भी उठाई अंगुली
2 दलितों को जीतते देख नहीं पाई यादवों की टीम, देसी कट्टा दिखाकर धमकाया, फिर ‘अखाड़ा’ बन गया फ्रेंडली कबड्डी मैच
3 स्कूल बस में केजी 1 की बच्ची से ज्यादती, नहीं था कोई टीचर
ये पढ़ा क्या?
X