CBI arrests BJP Leader with Two Others for Illegal collection to reopen sealed Bars and clubs - सील हो चुके बार-क्लब खुलवाने के नाम पर कर रहे थे उगाही, CBI ने BJP नेता समेत तीन को दबोचा - Jansatta
ताज़ा खबर
 

सील हो चुके बार-क्लब खुलवाने के नाम पर कर रहे थे उगाही, CBI ने BJP नेता समेत तीन को दबोचा

दिल्ली में बार और क्लबों से उगाही करने के मामले में सीबीआई ने तीन लोगों की धर-पकड़ की है, इनमें एक बीजेपी नेता भी शामिल हैं। कार्रवाई की जद में एक एसडीएम भी आए हैं। एक क्लब मालिक की शिकायत पर सीबीआई ने कार्रवाई की।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

दिल्ली में बार और क्लबों से उगाही करने के मामले में सीबीआई ने तीन लोगों की धर-पकड़ की है, इनमें एक बीजेपी नेता भी शामिल हैं। कार्रवाई की जद में एक एसडीएम भी आए हैं। एक क्लब मालिक की शिकायत पर सीबीआई ने राजधानी के नेताजी सुभाष प्लेस इलाके में कार्रवाई की और तीन आरोपियों को धर दबोचा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इलाके में कुछ बार और क्लब सील किए गए थे। सीबीआई की गिरफ्त में आए आरोपी इन बार और क्लबों को खुलवाने के नाम पर उनके मालिकों से उगाही कर रहे थे। आरोप है कि यहां के एसडीएम ने बार और क्लबों को खुलवाने का झांसा देकर उनके मालिकों से उगाही करने के लिए कहा था। सीबीआई की छापेमारी के वक्त एसडीएम विवेक मौके पर नहीं मिले। सीबीआई ने इस मामले में शकूरपुर से चुनाव लड़ चुके बीजेपी नेता अनूप पवार को भी गिरफ्तार किया है।

अनूप पवार पर आरोप है कि वह इस रैकेट में शामिल थे। पवार अन्य आरोपियों के साथ बार और क्लबों के मालिकों से पैसों की उगाही कर रहे थे। तीनों आरोपियों इलाके में सील चल रही ‘मिक्स लाउंज’ खुलवाने के नाम पर उगाही कर रहे थे। आरोपियों ने लाउंज को खुलवाने के लिए तीन लाख रुपयों की मांग की थी। लेकिन इससे पहले कि ये आरोपी अपने मंसूबों में कामयाब हो पाते, सीबीआई ने इन्हें रंगे हाथों धर लिया। कहा जा रहा है कि मामले के आरोपी एसडीएम को सीबाआई रेड की जानकारी के बारे में पहले ही भनक लग गई थी, इसे देखते हुए वह छुट्टी पर चले गए।

बता दें कि नेताजी सुभाष प्लेस इलाके में बार और क्लबों के लिए खासा जाना जाता है। दिल्ली के अलावा इससे सटे एनसीआर के लोग भी इन बार और क्लबों में पार्टियां करने पहुंचते हैं। इससे क्लबों को मोटी कमाई होती है। लेकिन इसी की आड़ में गैर-कानूनी गतिविधियों पर भी पुलिस की नजर रहती है। पिछले दिनों कानून का चाबुक चला तो कई बार और क्लबों को सील कर दिया गया। अब इन क्लबों को खुलवाने के लिए इनके मालिक आतुर हो रहे हैं और वे झांसे में आकर रकम फंसा देते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App