ताज़ा खबर
 

आंध्र प्रदेश: COVID-19 के चलते बैन थी एंट्री, फिर भी जबरन मंदिर के गर्भगृह में घुसे BJP नेता, केस दर्ज

पुलिस शिकायत के मुताबिक भाजपा नेता भगवान के दर्शन के लिए महानंदी मंदिर पहुंचे और आपत्ति के बावजूद गर्भगृह में दाखिल हुए।

Case filed against BJP leaderमामले में सोशल मीडिया यूजर्स भी खूब प्रतिक्रिया दे रहे हैं। (एएनआई)

आंध्र प्रदेश पुलिस भाजपा नेता श्रीकांत रेड्डी के खिलाफ केस दर्ज किया है। आरोप है कि वो जबरन मंदिर के गर्भगृह में दाखिल हो गए। पुलिस ने बताया कि कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के चलते वर्तमान में मंदिर में प्रवेश को प्रतिबंधित किया गया है। पुलिस शिकायत के मुताबिक भाजपा नेता शनिवार शाम को भगवान के दर्शन के लिए महानंदी मंदिर पहुंचे। मंदिर के अधिकारियों ने कोविड-19 संबंधी दिशा-निर्देशों के कारण उन्हें ‘स्पर्श दर्शन’ के लिए गर्भगृह में प्रवेश करने से रोक दिया। इसके बाद भाजपा नेता और मंदिर कर्मचारियों के बीच जबानी जंग छिड़ गई।

शिकायत के अनुसार मंदिर कर्मचारियों ने रेड्डी को मंदिर के गर्भगृह में जाने की अनुमति देने से ये कहते हुए इनकार कर दिया कि कार्यकारी अधिकारी की मंजूरी के बिना उन्हें दाखिल होने की अनुमति नहीं दी जाएगी। भाजपा नेता इसके बाद लौट गए। हालांकि दूसरी बार वो फिर मंदिर पहुंचे और मंदिर के नियमों के अनुसार अपनी कमीज उतार दी और मंदिर कर्मचारियों की आपत्ति के बावजूद भी गर्भगृह में प्रवेश किया। इसके भाजपा नेता और मंदिर प्रोटोकॉल इंस्पेक्टर सुरेंद्रनाथ रेड्डी के बीच विवाद हो गया।

मामला संज्ञान में आने के बाद सोशल मीडिया यूजर्स भी जमकर प्रतिक्रिया दे रहे हैं। ट्विटर यूजर मानव @manavjivan लिखते हैं, ‘भाजपा को कानून का उल्लंघन करना सही लगता है क्योंकि नरेंद्र मोदी केंद्र में हैं।’ काशी @terikahkelunga लिखते हैं, ‘ये हमारा ल@#$का नहीं है।’

अर्पित भटनागर @arpitbhtnagar लिखते हैं, ‘कोविड-19 प्रतिबंधों का क्या मतलब, जब भारत सरकार ने नए अनलॉक दिशा-निर्देश जारी किए हैं और इसमें बताया गया कि मंदिरों को फिर से खोला जा सकता है।’ नावेद @BawaNaaved लिखते हैं, ‘इस तरह के लोग पूरे देश के लिए खतरा हैं और इन्हें सलाखों के पीछे रखा जाना चाहिए।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Birthday Special: …जब मैच देखने के लिए पिता ने लगाई थी सिफारिश, फिर भी नहीं मिली थी राजीव शुक्ला को एंट्री, जानें पूरा किस्सा
2 Bihar Elections 2020: 25 सालों का BSP से नाता तोड़ JDU में प्रदेश उपाध्यक्ष शामिल, दर्जनों पदाधिकारियों ने भी थामा नीतीश के दल का दामन
3 2009 अवमानना केस: प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की याचिक की यह मांग
ये पढ़ा क्या?
X