ताज़ा खबर
 

केरलः सोनिया गांधी और अन्य कांग्रेस नेताओं के खिलाफ पैसे नहीं चुकाने का मामला

केरल की एक निर्माण कंपनी ने बकाया राशि का कथित रूप से भुगतान नहीं किए जाने को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी के कुछ अन्य नेताओं के खिलाफ यहां एक अदालत में दीवानी मुकदमा दायर किया है।

Author तिरुवनंतपुरम | June 9, 2016 2:35 AM
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी। (पीटीआई फाइल फोटो)

केरल की एक निर्माण कंपनी ने बकाया राशि का कथित रूप से भुगतान नहीं किए जाने को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी के कुछ अन्य नेताओं के खिलाफ यहां एक अदालत में दीवानी मुकदमा दायर किया है। याचिकाकर्ता एक स्थानीय निर्माण कंपनी है और उसके वकील बाबू राज ने बुधवार को कहा कि हाल ही में दर्ज कराए गए मामले में सोनिया गांधी प्रथम प्रतिवादी हैं।

याचिकाकर्ता ने यहां से करीब 30 किलोमीटर दूर नेय्यर में राजीव गांधी इंस्टीट्यूट आफ डेवलपमेंट स्ट्डीज परिसर के निर्माण में 2.8 करोड़ रुपए के बकाया के भुगतान की मांग की है। बाबू राज ने कहा कि केरल कांग्रेस के अध्यक्ष वी एम सुधीरन, पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी, पूर्व प्रदेश कांग्रेस प्रमुख और अभी विपक्ष के नेता रमेश चेन्नीतला और संस्थान के निदेशक एच मोहम्मद मामले में अन्य प्रतिवादी हैं। परिसर का निर्माण केरल कांग्रेस ने कराया है। सोनिया गांधी ने 2013 में इसका उद्घाटन किया था।

याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया है कि केरल कांग्रेस ने अभी तक 2.8 करोड़ रुपए की लंबित राशि का भुगतान नहीं किया है। इस मामले में पूछे जाने पर चेन्नीतला ने कहा कि लंबित राशि का जल्द ही भुगतान कर दिया जाएगा और मामला अदालत के बाहर सुलझा लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि कुछ बिलों को लेकर भ्रम की स्थिति थी और ‘हम इसे सुलझा लेंगे।’

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि यह मामला कांग्रेस अध्यक्ष को शामिल करने के लिए ‘अनुचित और घटिया’ प्रयास है। उन्होंने कहा कि संस्थान बनाने वाले इंजीनियरों और काम कराने वाले ठेकेदार के बीच विवाद चल रहा है और ठेकेदार ने दीवानी मामला दायर किया है। उन्होंने कहा, ‘इस मुद्दे का लगभग हल हो गया है। 24 घंटे के अंदर केरल कांग्रेस के नेता चेन्नीतला, वी एम सुधीरन और सभी पक्ष एक साथ बैठेंगे और मामले को सुलझा लेंगे। न कोई अपराध का मामला है और न ही भुगतान में किसी चूक का।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App