CM अशोक गहलोत की नसीहत पर भड़के कैप्टन अमरिंदर, कहा- राजस्थान संभालें, पंजाब को छोड़ दें

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री ने अशोक गहलोत की सलाह पर कहा कि वो अपना राजस्थान देखें, पंजाब की चिंता न करें। हमें पता है कि पंजाब के साथ क्या करना है।

Ashok Gehlot Capt Amrinder Singh
कैप्टन अमरिंदर सिंह और अशोक गहलोत (फाइल/ इंडियन एक्सप्रेस)

पंजाब में कांग्रेस पार्टी ने भले ही नेतृत्व परिवर्तन कर दिया हो लेकिन हालात अभी भी सामान्य नहीं हुए हैं। पार्टी के नेताओं के बीच टकराव और टीका टिप्पणी का सिलसिला अभी थमा नहीं है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की नसीहत पर कैप्टन अमरिंदर ने नाराजगी जाहिर की है। इंडिया टीवी चैनल से बात करते हुए पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री ने अशोक गहलोत की सलाह पर कहा कि वो अपना राजस्थान देखें, पंजाब की चिंता न करें। हमें पता है कि पंजाब के साथ क्या करना है। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि गहलोत मेरे अच्छे दोस्त हैं, चुनाव में जिस कमेटी ने टिकट दिए थे, वो इसके चेयरमैन थे।

कैप्टन ने कहा कि गहलोत बहुत अच्छे इंसान हैं लेकिन उन्हें अपनी परेशानियों को देखना चाहिए, पूरे देश में तीन कांग्रेस शासित राज्य बचे हैं, उनमें से भी पंजाब को खराब किया जा रहा है। बताते चलें कि गहलोत ने कहा था कि उम्मीद है कि कैप्टन ऐसा कोई कदम नहीं उठाएंगे जिससे कांग्रेस को नुकसान हो। उल्लेखनीय है कि पंजाब में कांग्रेस के अंदर की कलह सतह पर आने से पहले पहले राजस्थान के अंदरखाने की नाराजगी भी बाहर आई थी।

कैप्टन अमरिंदर से जब आगामी विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की जीत की संभावनाओं पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि पहले पंजाब कांग्रेस में दो ग्रुप माने जाते थे। एक अमरिंदर सिंह का ग्रुप कहते थे और दूसरे में चरणजीत चन्नी, सुखजिंदर जैसे लोगों का था लेकिन मौजूदा स्थिति में पार्टी के अंदर 6 ग्रुप बन गए हैं। ऐसे में अगर इसी तरह से बिखराव होता रहा तो नतीजे कुछ भी हो सकते हैं।

सिद्धू को आक्रामक व्यक्ति बताते हुए कैप्टन ने कहा कि पार्टी को लगता है कि पंजाब उनके बगैर नहीं चल सकता। जबकि सच्चाई ये है कि पंजाब को चलाने के बजाय सिद्धू उसे खराब करके जाएगा। कांग्रेस के खिलाफ बागी तेवर अख्तियार कर चुके कैप्टन ने साफ कहा है कि अगर 2022 के विधानसभा चुनावों में नवजोत सिंह सिद्धू कांग्रेस का चेहरा होते हैं तो वह इसका विरोध करेंगे।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट