ताज़ा खबर
 

युवती को फोन कर पूछा- क्या दबाव में कर रही हो शादी, भेजा गया जेल

आपसी सहमति से शादी कर रहे दो समुदायों के युवक-युवतियों से कार्ड प्रिंटिंग के दुकानदार ने फोन कर युवती से पूछा कि, 'क्या वह किसी दबाव में आकर तो शादी नहीं कर रही', पुलिस ने केस कर दर्ज भेजा जेल।

Author गुड़गांव | October 22, 2018 5:42 PM
जेल की सांकेतिक तस्वीर

दो अलग समुदायों के युवक और युवती दोनों ही अपनी मर्जी से विवाह कर रहे थे, तभी कार्ड की छपाई करने वाले एक शख्स ने हिन्दू युवती से ये पूँछ अपनी शामत मोल ली कि, ‘वो किसी दबाव में तो नहीं शादी कर रही।’ युवक और युवती के परिवार की आपसी सहमति से, हिन्दू युवती ने शनिवार को मुस्लिम समुदाय के लड़के से प्रेम विवाह कर लिया। कार्ड छापने वाले दुकानदार के द्वारा युवती से की गयी पूछताछ की शिकायत पुलिस में कर दी गयी। पुलिस ने आरोपी पर केस दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस मामले की जाँच कर रही है।

मामला गुड़गांव का है जहां राजेंद्र पार्क के पास रहने वाली एक हिन्दू युवती ने वहीं पड़ोस के ही एक मुस्लिम युवक से एक वाटिका में शादी की। इस शादी के लिए कार्ड छपाई हेतु एक सप्ताह पहले न्यू रेलवे रोड स्थित एक प्रिंटिंग प्रेस का चुनाव किया गया। शादी के कार्डों की फाइनल छपाई के दौरान दुकानदार बजरंग जो कि मूलतः पटौदी के मूलगढ़ का रहने वाला है, ने कार्ड में युवक का मुस्लिम नाम देखकर लड़की को फोन लगा दिया। दुकानदार को लड़की का नंबर कार्ड से ही मिला था।

युवती को कॉल मिलाने के बाद दुकानदार ने युवती से पूछा कि, वह किसी दबाव में आकर तो नहीं शादी कर रही है। कॉल से घबराई हुई युवती ने जब ये बात अपने परिजनों तक पहुंचाई तो परिजनों ने इसकी शिकायत पुलिस से की। शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने प्रिंटिंग प्रेस के मालिक बजरंग के खिलाफ धमकी देने का मुकदमा दर्ज कर लिया है। कॉल डिटेल की जाँच के आधार पर पुलिस आरोपित तक पहुंची और उसे गिरफ्तार भी कर लिया है। पुलिस ने जाँच कर उसे मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जहां उसे न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया है।

राजेंद्र पार्क थाने के एएसआई राजबीर सिंह ने कहा कि, कार्ड प्रिंट करने वाला व्यक्ति युवती से उसकी शादी के बारे में पूछ रहा था। शुरुवाती जाँच में दुकानदार की गलती मिली है फिलहाल जाँच चल रही है, केस दर्ज कर उसे जेल भेज दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App