ताज़ा खबर
 
  • राजस्थान

    Cong+ 94
    BJP+ 80
    RLM+ 0
    OTH+ 25
  • मध्य प्रदेश

    Cong+ 109
    BJP+ 110
    BSP+ 6
    OTH+ 5
  • छत्तीसगढ़

    Cong+ 60
    BJP+ 21
    JCC+ 8
    OTH+ 1
  • तेलांगना

    TRS-AIMIM+ 89
    TDP-Cong+ 22
    BJP+ 2
    OTH+ 6
  • मिजोरम

    MNF+ 29
    Cong+ 6
    BJP+ 1
    OTH+ 4

* Total Tally Reflects Leads + Wins

E-commerce की मनमानी पर रोक लगाएगी शिकायती सेल : कैट

ई-कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ शिकायतें दर्ज करने हेतु एक शिकायती सेल बनाए जाने की सरकारी घोषणा का कनफेडरेशन आॅफ आॅल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने स्वागत किया है।

Author नई दिल्ली | August 26, 2016 2:41 AM

ई-कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ शिकायतें दर्ज करने हेतु एक शिकायती सेल बनाए जाने की सरकारी घोषणा का कनफेडरेशन आॅफ आॅल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने स्वागत किया है। कैट का कहना है की संभवत: कुछ हद तक ई-कॉमर्स कंपनियों की मनमानी पर रोक लगेगी। लेकिन कैट ने 10 अगस्त को दाखिल अपनी शिकायत पर इन कंपनियों की ओर से एफडीआइ नीति के उल्लंघन की जांच करवाने पर जोर दिया है।
कैट के राष्

राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री निर्मला सीतारामन के इस कदम की सराहना तो की है लेकिन साथ ही उनके उस बयान पर असहमति भी जताई है। जिसमें उन्होंने कहा है कि एनफोर्समेंट विभाग की ओर से इन कंपनियों की जांच की जरूरत नहीं है। कैट ने 10 अगस्त को वाणिज्य मंत्रालय में एक ई-कॉमर्स पोर्टर्लों के खिलाफ एक शिकायत दर्ज करते हुए उन पर एफडीआइ पॉलिसी के उल्लंघन करने का आरोप लगाया और कहा की ये कंपनियां बड़े विज्ञापन देकर सीधे तौर पर सरकार की एफडीआइ नीति का उल्लंघन कर रही हैं।

दोनों व्यापारी नेताओं ने कहा कि कैट की शिकायत बेहद स्पष्ट और गंभीर थी। जिसमें नीति के प्रावधानों का जिक्र किया गया था जिसका उल्लंघन ये कंपनियां कर रही हैं। उन्होंने कहा की बेशक एनफोर्समेंट विभाग जांच न करे लेकिन सरकार को किसी और एजंसी से शिकायत की जांच करवानी आवश्यक है। जिससे ये स्पष्ट हो की शिकायत गलत है अथवा वास्तव में ई- कॉमर्स कंपनियां पॉलिसी का उल्लंघन कर रही हैं और यदि ऐसा है तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App