ताज़ा खबर
 

बुलंदशहरः मारे गए पुलिस अफसर के बेटे ने पूछा- कल किसके पापा की जान जाएगी?

बुलंदशहर में गोवध के बाद भड़की हिंसा में शहीद हुए पुलिस इंस्पेक्टर के बेटे ने पूछा दर्दनाक सवाल।

शहीद पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह का बेटा (फोटोः ANI)

बुलंदशहर में सांप्रदायिक हिंसा के बीच शहीद हुए पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के बेटे ने मीडिया से बातचीत में ऐसा सवाल पूछ डाला जिसे सुनकर हर किसी की आंख नम हो गई। उनके छोटे बेटे अभिषेक ने कहा, ‘मेरे पिता मुझे एक अच्छा नागरिक बनाना चाहते थे। वो समाज में धर्म के नाम पर हिंसा नहीं चाहते थे। हिंदू-मुस्लिम के झगड़े में आज मेरे पिता ने अपनी जिंदगी खो दी है। आप मुझे बताइए कल किसके पिता की जिंदगी जाने वाली है?’

इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के चचेरे भाई सौरभ ने बताया कि सुबोध के पिता राम प्रताप सिंह भी यूपी पुलिस में कार्यरत थे। लंबी बीमारी के बाद उनकी मृत्यु हो गयी थी। जिसके चलते सुबोध को पिता की जगह अनुकंपा नियुक्ति मिली थी। सुबोध की पत्नी रजनी और दो बच्चे श्रेय और अभिषेक नोएडा में रहते हैं। एक बच्चा स्कूल में और दूसरा इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ता है। सुबोध के चचेरे भाई अतुल सिंह वायुसेना से सेवानिवृत्त हैं और दिल्ली में रहते हैं। सुबोध के चचेरे भाई राहुल सिंह ने कहा कि सुबोध 1995 में पुलिस बल में शामिल हो गए थे। सुबोध की मां सतलेश देवी की मृत्यु पिछले साल हुई थी।

फोटो क्रेडिट- जनसत्ता ऑनलाइन

एडीजी बोले- अब हालात नियंत्रण में
मंगलवार को हिंसा प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए एडीजी ने अब हालात नियंत्रण में होने की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि हिंसा के मामले में 27 लोगों को आरोपी बनाया गया है। दरअसल बुलंदशहर के महाव गांव में सोमवार को गोवंश के वध की खबरों के बाद इलाके में हिंसा भड़क गई थी। इस हिंसा में पुलिस अधिकारी के साथ-साथ सुमित नाम के एक युवक की भी मौत हो गई थी। इसके बाद गुस्साई भीड़ ने पुलिस चौकी समेत कई वाहनों में आग लगा दी। हिंसा के दौरान आधा दर्जन पुलिसकर्मियों समेत कई लोग घायल हो गए।

सुबोध की ही पिस्टल से उन्हें मारी गोली
रिपोर्ट्स के मुताबिक, ‘गोवंश के वध की सूचना मिलने पर पुलिस की टीम मौके पर पहुंची थी। वहां भीड़ को समझाने की कोशिश की गई। लेकिन लोग कटे हुए गोवंश को ट्रैक्टर-ट्रॉली में रखकर हाईवे की ओर ले जाने की योजना बना रहे थे। हंगामा बढ़ने की सूचना पर स्याना से इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह भी मौके पर पहुंचे। हालात बिगड़ते देख उन्होंने लाठीचार्ज का आदेश दे दिया। इसके बाद भीड़ और बेकाबू हो गई और हाईवे जाम कर पुलिस पर पथराव कर दिया। इसी दौरान इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की पिस्टल छीनकर उनके सिर में गोली मार दी गई। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सांसदों, विधायकों के खिलाफ चार हजार से ज्यादा मामले लंबित, सीजेआई की बेंच करेगी विचार
2 लखनऊ: बीजेपी नेता की चाकुओं से गोदकर हत्‍या, लिए पांच लोगों के नाम
3 यूपी: राम मंदिर निर्माण को लेकर नागा साधु, संतों का अयोध्‍या कूच
ये पढ़ा क्या?
X