ताज़ा खबर
 

वीडियो: अमित शाह के खिलाफ बीजेपी कार्यकर्ताओं ने ही लगाए नारे, जानिए क्‍यों

कर्नाटक के पूर्व मुख्‍यमंत्री बीएस. येद्दियुरप्‍पा ने खुद अपने बेटे बीवाई. विजयेंद्र को विधानसभा चुनाव का टिकट न मिलने की जानकारी दी। इसके बाद बड़ी संख्‍या में विजयेंद्र के समर्थक जुट गए। कार्यकर्ताओं ने पार्टी की सदस्‍यता त्‍यागने की भी चेतावनी दी है।

मैसूर में पार्टी हाईकमान के खिलाफ प्रदर्शन करते बीजेपी कार्यकर्ता। (फोटो सोर्स: वीडियो ग्रैब)

कर्नाटक में मई में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए टिकट न मिलने पर विरोध का सिलसिला जारी है। बीजेपी कार्यकर्ताओं ने अपनी ही पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह और अनंत कुमार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। दरअसल, पार्टी हाईकमान ने भाजपा के मुख्‍यमंत्री पद के चेहरे बीएस. येद्दियुरप्‍पा के बेटे बीवाई. विजयेंद्र को टिकट नहीं दिया है। पूर्व सीएम येद्दियुरप्‍पा ने सोमवार (23 अप्रैल) को ऐलान किया कि उनके बेटे विजयेंद्र इस बार के चुनाव मैदान में नहीं उतरेंगे। इसके बाद विजयेंद्र के समर्थकों ने पार्टी अध्‍यक्ष अमित शाह और अनंत कुमार के खिलाफ नारेबाजी की। बता दें कि टिकट बंटवारे को लेकर कांग्रेस में भी हंगामा हो चुका है। कर्नाटक विधानसभा के लिए 12 मई को वोट डाले जाएंगे, जबकि 15 मई को मतगणना होगा। चुनाव तिथियों की घोषणा को लेकर भी विवाद हो चुका है।

वरुणा सीट पर सीएम सिद्धारमैया के बेटे से होना था मुकाबला: कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री सिद्धारमैया के बेटे डॉक्‍टर यतींद्र सिद्धारमैया और बीएस. येद्दियुरप्‍पा के बेटे के बीच मैसूर के वरुणा सीट पर चुनावी मुकाबला होने की संभावना जताई जा रही थी। लेकिन, भाजपा हाईकमान के निर्णय से अब य‍ह संभव होता नहीं दिख रहा है। मैसूर में भाजपा कार्यकर्ताओं ने शीर्ष नेतृत्‍व को चेतावनी दी है कि विजयेंद्र को टिकट नहीं मिलने पर वे पार्टी की सदस्‍यता त्‍याग देंगे। समर्थकों का कहना है कि उनके नेता को विधानसभा चुनाव का टिकट न देकर उनके साथ धोखा किया गया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, उत्‍तेजित कार्यकर्ताओं ने न केवल अमित शाह और अनंत कुमार के खिलाफ नारेबाजी की, बल्कि नांजनागुड़ु (मैसूर) में रैली स्‍थल पर तोड़फोड़ भी की। समर्थकों की जबर्दश्‍त भीड़ होने के कारण विजयेंद्र अपने होटल रूम से निकल भी नहीं सके। उनके समर्थक जोर-जोर से कह रहे थे कि विजयेंद्र को टिकट न मिलने पर वह एचडी. देवेगौड़ा की पार्टी जनता दल सेक्‍युलर के पक्ष में वोट करेंगे। बता दें कि भाजपा इस बार कर्नाटक में सत्‍ता में आने की पुरजोर कोशिश कर रही है। कुछ दिनों पहले हुए एक सर्वेक्षण में मुख्‍यमंत्री सिद्धारमैया की वापसी के संकेत मिले थे। ऐसे में कार्यकर्ताओं के बगावती तेवर से भाजपा को नुकसान भी हो सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App