ताज़ा खबर
 

ब्रिटिशकालीन जेल नियमों को बदलने की कवायद

उत्तर प्रदेश के कारागार मंत्री बलवंत सिंह रामूवालिया ने कहा है कि कैदखानों को यातनागृह के बजाए सुधारगृह बनाने के लिए जेल संबंधी ब्रिटिशकालीन नियमों को बदला जाएगा। इसके लिए कानूनी सलाह ली जा रही है..

Author लखीमपुर खीरी | December 24, 2015 23:12 pm

उत्तर प्रदेश के कारागार मंत्री बलवंत सिंह रामूवालिया ने कहा है कि कैदखानों को यातनागृह के बजाए सुधारगृह बनाने के लिए जेल संबंधी ब्रिटिशकालीन नियमों को बदला जाएगा। इसके लिए कानूनी सलाह ली जा रही है।

साथ ही उन्होंने नए साल में प्रदेश के कारागारों में कैदियों को नई सुविधाएं देने का संकेत देते हुए कहा कि जल्द ही कैदी जेल प्रशासन के पोस्टपेड मोबाइल से अपने परिजन से बात कर सकेंगे। हालांकि इस दौरान जेल के अधिकारी मौजूद रहेंगे। रामूवालिया ने बुधवार को पत्रकारों से कहा कि कारागारों को मौजूदा वक्त की जरूरतों के हिसाब से ढालने के लिए ब्रिटिशकालीन नियमों को बदलने की जरूरत है।

उन्होंने कहा, ‘इस बदलाव के लिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की सहमति से कानूनी सलाह मांगी गई है’। कारागार मंत्री ने कहा कि प्रदेश की जेलों को यातनागृह के बजाय सुधारगृह में तब्दील किया जाएगा ताकि कैदी अपनी सजा काटने के बाद समाज की मुख्यधारा में आसानी से शामिल हो सकें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App