ताज़ा खबर
 

राजस्थान के शिक्षा मंत्री ने न्यूटन के गुरुत्वाकर्षण नियम के बारे में दिया नया ज्ञान

वसुंधरा राजे सरकार में प्राइमरी एवं सेकंड्ररी एजुकेशन मिनिस्टर देवनानी राजस्थान यूनिवर्सिटी के 72वें स्थापना दिवस के मौके पर छात्रों को संबोधित कर रहे थे।

Author जयपुर | January 9, 2018 9:18 AM
राजस्थान के शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी।

दीप मुखर्जी

राजस्थान के शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने सोमवार को कहा कि गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत की खोज इसाक न्यूटन से 1000 पहले ब्रह्मगुप्त ने कर ली थी। वसुंधरा राजे सरकार में प्राइमरी एवं सेकंड्ररी एजुकेशन मिनिस्टर देवनानी राजस्थान यूनिवर्सिटी के 72वें स्थापना दिवस के मौके पर छात्रों को संबोधित कर रहे थे। देवनानी ने कहा, ”अभी मैं तीन चार दिन पहले पढ़ रहा था कि न्यूटन का…गुरुत्वाकर्षण का नियम किसने किया? तो बताया कि न्यूटन ने किया, मैंने भी पढ़ा, आपने भी पढ़ा। गहराई में जाएंगे तो ब्रह्मगुप्त द्वितीय ने न्यूटन से एक हजार साल पहले ही गुरुत्वाकर्षण का नियम दिया था”।

देवनानी से भाषण के दौरान पूछा गया कि यह सिलेबस में अब तक क्यों नहीं जोड़ा गया। इस पर उन्होंने कहा, ”इसके लिए बाद में आधुनिक वैज्ञानिकों ने तंत्र विकसित किया है और हम उसे भी पढ़ाएंगे। लेकिन एेसे विषयों को भारतीयों के लिए माकूल बनाता होगा”। उन्होंने किताबों में उन बदलावों के बारे में भी बाद की, जो बीजेपी के राज्य की सत्ता में आने के बाद हुए हैं। देवनानी ने कहा, ”बदलाव 1 से 12वीं कक्षा तक की किताबों में हुए हैं। यहां तक कि राजस्थान में कई वर्षों तक पढ़ाया गया कि अकबर महान था। यह मैंने और आपने पढ़ा। लेकिन आज अकबर का चैप्टर हटाकर उसकी जगह महाराणा प्रताप का चैप्टर जोड़ा गया है”। इसके अलावा मंत्री ने छात्र नेता कन्हैया कुमार का जिक्र करते हुए 2016 में जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में हुए प्रदर्शनों पर भी बातचीत की।

देवनानी ने कहा, ”रोज-रोज जब अखबारों में पढ़ते हैं, हिंसा की, तोड़-फोड़ की, आगजनी की, इस प्रकार की जो राष्ट्रविरोधी गतिविधियां होती हैं, उसको मेरे विश्वविद्यालय कैसे रोके। अब जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी का जब…मैं बहुत ज्यादा जिक्र नहीं करता…वो अपने कन्हैया के बारे में आप सबको जानकारी है। राजस्थान में कोई कन्हैया पैदा नहीं होना चाहिए”।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App