scorecardresearch

AIADMK जनरल काउंसिल की बैठक में हंगामा, पूर्व डिप्‍टी सीएम पनीरसेल्‍वम पर फेंकी गईं बोतलें, मीटिंग छोड़कर भागे

AIADMK की बैठक में एजेंडे के 23 प्रस्तावों पर चर्चा नहीं हो सकी क्योंकि पलानीस्वामी के समर्थक एकल नेतृत्व की मांग पर अड़े रहे। बैठक के लिए अध्यक्ष चुने गए डॉ तमिलगमन हुसैन ने बताया कि पार्टी जनरल काउंसिल की अगली बैठक 11 जुलाई 2022 को होगी।

panneerselvam| AIADMK| Palaniswami
AIADMK बैठक में पूर्व डिप्‍टी सीएम पनीरसेल्‍वम पर फेंकी गईं बोतलें (Photo Source- screengrab/ ANI)

तमिलनाडु में AIADMK जनरल काउंसिल की बैठक में जमकर हंगामा हुआ। गुरुवार (23 जून 2022) को चेन्नई में आयोजित इस बैठक में अन्नाद्रमुक समन्वयक और पूर्व डिप्टी सीएम ओ पनीरसेल्वम पर बोतलें फेंकी गईं। इस बीच पूर्व डिप्टी सीएम बैठक बीच में ही छोड़कर चले गए। बैठक चेन्नई के वनगरम के श्रीवारु वेंकटचलपति पैलेस में हुई।

मीटिंग के दौरान पनीरसेल्वम पर पानी की बोतलें फेंकी गईं और उनके खिलाफ नारेबाजी की गई। शोर-गुल के बीच परिषद की बैठक 40 मिनट तक चली।

पलानीस्वामी के समर्थकों ने जैसे ही उन्हें एक सजा हुआ ताज, एक तलवार और राजदंड भेंट किया, पनीरसेल्वम, अन्नाद्रमुक उप सचिव वैथीलिंगम समेत उनके समर्थक मीटिंग से उठकर चले गए। पनीरसेल्वम पार्टी की आम परिषद में सदस्यों के एकल नेतृत्व की मांग पर अड़े हुए थे।

अगली बैठक 11 जुलाई को: पनीरसेल्वम और संयुक्त समन्वयक पलानीस्वामी के बीच सत्ता संघर्ष की पृष्ठभूमि में हो रही जनरल काउंसिल की बैठक चेन्नई के वनगरम के श्रीवारु वेंकटचलपति पैलेस में हुई। बैठक में एजेंडे के 23 प्रस्तावों पर चर्चा नहीं हुई क्योंकि सदस्य एकल नेतृत्व की मांग पर अड़े रहे। पार्टी ने घोषणा की कि अगली आम परिषद की बैठक 11 जुलाई 2022 को होगी। पूर्व मंत्री सी वी षणमुगम ने कहा कि पार्टी के सदस्य सभी प्रस्तावों को खारिज कर रहे हैं।

उठी एकल नेतृत्व की मांग: उप सचिव केपी मुनुसामी ने षणमुगम का समर्थन करते हुए कहा कि सदस्य पहले एकल नेतृत्व चाहते हैं, सभी प्रस्ताव तभी पारित होंगे जब पार्टी उन्हें एकल नेतृत्व के प्रस्ताव के साथ दोबारा पेश करेगी। षणमुगम ने AIADMK जनरल काउंसिल के 2,190 सदस्यों का हस्ताक्षर किया हुआ एक ज्ञापन पढ़ा। उन्होंने दोहरे नेतृत्व के कारण पार्टी को जिन कठिनाइयों का सामना करना पड़ा उन पर चर्चा करने का आग्रह किया और कहा कि इससे पार्टी के कार्यकर्ता परेशान हैं।

षणमुगम ने कहा, “अगर अगले 100 सालों में पार्टी फलना-फूलना चाहती है जैसा कि अम्मा ने सपना देखा था, तो पार्टी को जयललिता और एमजी रामचंद्रन जैसे मजबूत, साहसी नेता की जरूरत है और उसके लिए एकल नेतृत्व ही एकमात्र रास्ता है।” पूर्व मंत्री एसपी वेलुमणि जैसे ही धन्यवाद प्रस्ताव देने वाले थे उप समन्वयक आर वैथिलिंगम ने कहा कि बैठक कानून के खिलाफ हो रही थी और इसलिए वे वाकआउट कर रहे हैं।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट