UP में गन्ने के दाम बढ़ाने को BKU के राकेश टिकैत ने बताया ‘मजाक’, बोले- पड़ोसी राज्यों में खरीद मूल्य ज्यादा और डीजल सस्ता

भारतीय किसान संघ (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने गन्ने के खरीद मूल्य में वृद्धि की उत्तर प्रदेश सरकार की घोषणा को किसानों के साथ एक बड़ा मजाक करार दिया है।

CM Yogi Rakesh Tikait
किसान नेता राकेश टिकैत (बाएं), सीएम योगी आदित्यनाथ (दाएं)। (फोटो सोर्स – पीटीआई)

भारतीय किसान संघ (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने गन्ने के खरीद मूल्य में वृद्धि की उत्तर प्रदेश सरकार की घोषणा को किसानों के साथ एक बड़ा मजाक करार दिया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में गन्ने के खरीद मूल्य में 25 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी की घोषणा की है, जिसपर टिकैत ने यह टिप्पणी की। सरकार गन्ने की कीमत बढ़ाकर 350 रुपये प्रति क्विंटल कर रही है।

बीकेयू के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक की तरफ से यहां जारी एक बयान में टिकैत ने कहा, ”किसानों को 25 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी स्वीकार्य नहीं है। यह उत्तर प्रदेश सरकार का किसानों के साथ एक बड़ा मजाक है।” बीकेयू नेता ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश के पड़ोसी राज्यों में गन्ने का खरीद मूल्य अधिक है और वहां डीजल सस्ता है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में डीजल महंगा होने के कारण राज्य सरकार की यह बढ़ोतरी नाकाफी है।

गौरतलब है कि रविवार को उत्तर प्रदेश सरकार ने केंद्र और राज्‍य सरकारों द्वारा किसानों के हक में लागू की गई योजनाओं की चर्चा करते हुए गन्‍ने के मूल्‍य में प्रति क्विंटल 25 रुपये की वृद्धि की घोषणा की।

इस मामले पर बीएसपी प्रमुख मायावती ने भी योगी सरकार पर निशाना साधा है। पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा ” उत्तर प्रदेश सरकार पूरे साढ़े चार सालों तक राज्य के किसानों की घोर अनदेखी करती रही व गन्ने का समर्थन मूल्य नहीं बढ़ाया, मैंने सात सितम्बर को प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन में इस पर बोला था। अब चुनाव से पहले इनको गन्ना किसान की याद आई है जो इनके स्वार्थ को दर्शाता है।”

मायावती ने कहा कि ”केन्द्र व राज्य सरकार की किसान-विरोधी नीतियों से पूरा किसान समाज काफी दुखी व त्रस्त है, लेकिन अब चुनाव से पहले खुद को बचाने के लिए गन्ने का समर्थन मूल्य थोड़ा बढ़ाना खेती-किसानी की मूल समस्या का सही समाधान नहीं। ऐसे में किसान इनके किसी भी बहकावे में आने वाला नहीं है।”

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।