पंजाब चुनाव में ताल ठोकेंगे किसान, BKU नेता बोले- उनका मैदान में उतरने का इरादा नहीं, भ्रष्ट पार्टियों को हाशिए पर डालने के लिए सामने लाएंगे नए चेहरे

अभी यह साफ नहीं है कि किसान आंदोलन से जुड़े सभी लोग इस पर सहमत हैं कि नहीं, यह भी नहीं बताया गया है कि क्या पंजाब के अलावा भी अन्य राज्यों यानी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भी ये चुनाव लड़ेंगे।

करनाल में मीडिया से बात करते हुए बीकेयू हरियाणा के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी। (Photo- ANI)

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों के नेताओं ने अब कथित रूप से भ्रष्ट और किसान विरोधी नेताओं को किनारे करने के लिए चुनाव मैदान में प्रत्याशी उतारने का ऐलान किया है। बीकेयू (हरियाणा) प्रमुख गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने सोमवार को करनाल में मीडिया से बात करते हुए कहा कि उन्हें खुद मैदान में उतरने का कोई इरादा नहीं है, लेकिन भ्रष्ट पार्टियों को हाशिए पर डालने के लिए वे नए चेहरे सामने लाएंगे।

उन्होंने मिशन पंजाब की बात करते हुए कहा कि इसका मतलब “पूरे पंजाब” में अपना उम्मीदवार उतारना है। कहा कि मैं खुद चुनाव मैदान में नहीं उतरूंगा। हालांकि अभी यह साफ नहीं है कि किसान आंदोलन से जुड़े सभी लोग इस पर सहमत हैं कि नहीं, यह भी नहीं बताया गया है कि क्या पंजाब के अलावा भी अन्य राज्यों यानी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भी ये चुनाव लड़ेंगे। इसको लेकर सरगर्मियां तेज हो गई हैं। दूसरे दलों के साथ इनका क्या रवैया रहेगा, इस पर अभी कुछ नहीं कहा गया है।

दूसरी तरफ बीकेयू (हरियाणा) प्रमुख गुरनाम सिंह चढ़ूनी की इस घोषणा के बाद सोशल मीडिया पर लोग तरह-तरह की बातें कह रहे हैं। राठौर@rathoregns नाम के एक यूजर ने ट्विटर पर कहा, “इनके पास कोई और कार्य तो नहीं। भारत के अन्य खेतों में काम करने वाले लोग किसान थोड़ी हैं यही लोग किसान हैं क्योंकि यह ज्यादा पैसे कमा रहे हैं गरीब जो खेतों में काम कर रहा है जो ट्रैक्टर चला रहा है घास निकाल रहा है वह किसान नहीं है। यह माल काट रहे लोग ही किसान है।”

हरमन सिंह@harmansingh2013 नाम के एक अन्य यूजर ने लिखा, “प्राब्लम आपकी सेंटर से साल्व होनी है, अब अपने कैंडिडेट की बोली लगवाओगे आप तो दलाल निकले।” हंटिंग हंटर@eparitosh नाम के एक यूजर ने कमेंट किया, “केजरीवाल की तरह दूसरी पोलिटिकल पार्टी। ये चुनाव के बाद गठबंधन करके और सांप्रदायिक शक्तियों के खिलाफ… जैसा एक नाम देकर खत्म हो जाएंगे।”

रमेश@RameshSuri नाम के यूजर ने लिखा, “किसान खुद खेती करेगा या चुनाव लड़ेगा ? या किसानो के लिये कोई ओर चुनाव लड़ेगा आप सिर्फ़ दलाली करोगे।” द इमोर्टल इंडियन@TheImmortalInd1 नाम के एक दूसरे यूजर ने लिखा, “असर में वे कहना चाहते हैं कि धन लूटने वाले पुराने खिलाड़ियों को हटाओ और नए खिलाड़ियों को और धन लूटने के लिए ले आओ।”

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट