ताज़ा खबर
 

बीजेपी विधायक ने कहा, मुसलमान होने की वजह से नहीं मिला टिकट, पार्टी से इस्तीफा

रहमान ने कहा," जब पार्टी में मुस्लिमों को टिकट नहीं देने की पॉलिसी बन जाए तो फिर क्या कहा जा सकता हैं। मैं आगे की रणनीति अपने कार्यकर्ताओं से मिलने के बाद ही तय करूंगा।"

Author Updated: November 13, 2018 7:26 PM
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे। Express Photo by Rohit Jain Paras.

दीप मुखर्जी

राजस्थान विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र बीजेपी के उम्मीदवारों की पहली सूची जारी होने के बाद पार्टी में उठा-पटक का दौर जारी है। सोमवार को कैबिनेट मंत्री सुरेंद्र गोयल के इस्तीफे के बाद नागौर से विधायक हबीब-उर-रहमान ने भी पार्टी को अलविदा कह दिया है। गौरतलब है कि रहमान और गोयल का नाम रविवार को जारी 131 उम्मीदवारों की सूची में नहीं था। रहमान की जगह अब मोहन राम चौधरी को नागौर से मौका दिया गया है।

हबीब-उर-रहमान ने पार्टी छोड़ने के साथ ही बीजेपी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि बीजेपी में मुसलमानों को टिकट नहीं देने की पॉलिसी बन गयी है। रहमान ने कहा,” मैंने बीजेपी से इस्तीफा दे दिया है। जब पार्टी में मुस्लिमों को टिकट नहीं देने की पॉलिसी बन जाए तो फिर क्या कह सकते हैं। मैंने टिकट हासिल करने के लिए कोई भी ग़लत तरीका नहीं अपनाया है। मैं आगे की रणनीति अपने कार्यकर्ताओं से मिलने के बाद ही तय करूंगा।”

राजस्थान सरकार में सिर्फ दो ही मुसलमान नाम प्रभावी रहे हैं। इनमें से रहमान के अलावा दूसरा नाम यूनुस ख़ान का है। यूनुस ख़ान को मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का बेहद ख़ास माना जाता है। लेकिन, उन्हें भी टिकट से महरूम रखा गया है।

हालांकि, पांच बार विधायक रहे हबीब-उर-रहमान किस तरफ अपना राजनीतिक रफ्तार पकड़ेंगे यह साफ नहीं हो पाया है। गौरतलब है कि रहमान का नाता कांग्रेस से भी रह चुका है। 2008 विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए थे। उस दौरान बीजेपी की हार के बावजूद वह अपना चुनाव जीत गए थे। इसके बाद 2013 विधानसभा चुनाव में भी नागौर से ही लगातार चुनाव जीते थे। इन सबके बीच रहमान खामोश हैं और अपने पत्ते नहीं खोल रहे। लेकिन, सूत्र बता रहे हैं कि वह कांग्रेस या राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी से चुनाव लड़ सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 बंदर की मौत के बाद हिंदू-मुसलमानों ने मिलकर किया अंतिम संस्कार, मौलवी भी हुए शामिल
ये पढ़ा क्या?
X