ताज़ा खबर
 

बीजेपी की सहयोगी अपना दल ने कहा- सभी सीटों पर है तैयारी, मांगें नहीं मानी तो होगा फैसला

गोण्‍डा में 20 फरवरी को मीडिया से बातचीत में उन्‍होंने नाराजगी वाले मुद्दों को दोहराया और मांगें नहीं माने जाने की स्‍थिति में लोकसभा चुनाव लड़ने को लेकर स्‍वतंत्र निर्णय लेने की चेतावनी भी दी।

Author February 22, 2019 11:27 AM
केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री और अपना दल की नेता अनुप्रिया पटेल के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

जानकी शरण द्विवेदी

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री और अपना दल की नेता अनुप्रिया पटेल ने कहा है कि उनकी पार्टी यूपी की सभी सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। बता दें कि अपना दल एनडीए की घटक है, पर कई बातों को लेकर भाजपा से नाराज है। उसकी नाराजगी खास कर यूपी की भाजपा सरकार से है। गोण्‍डा में 20 फरवरी को मीडिया से बातचीत में उन्‍होंने नाराजगी वाले मुद्दों को दोहराया और मांगें नहीं माने जाने की स्‍थिति में लोकसभा चुनाव लड़ने को लेकर स्‍वतंत्र निर्णय लेने की चेतावनी भी दी।

पटेल ने यूपी के जिलों में जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक जैसे महत्वपूर्ण पदों पर अधिकारियों की तैनाती पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि इन पदों पर तैनाती के समय सामाजिक समीकरणों का ध्यान रखा जाना चाहिए।सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा का अनावरण करने एक दिवसीय दौरे पर बुधवार को गोण्डा पहुँचींं राज्य मंत्री ने कहा, ‘अधिकारियों की तैनाती करते समय सामाजिक समीकरणों का ध्यान रखा जाना चाहिए। जैसे डीएम सामान्य वर्ग का हो तो एसपी दलित वर्ग का।’ उन्होंने कहा कि अपना दल राज्य की सभी सीटों पर चुनाव की तैयारी कर रही है, लेकिन भाजपा से गठबंधन के कारण सीटों की संख्या अभी स्पष्ट नहीं कर सकती।

भाजपा को चेतावनी देने के सवाल पर उन्होंने कहा कि हमने अपनी बात भाजपा के सामने रख दी है। मांगें न मानी गईंं तो मंथन होगा और अपना दल स्वतंत्र होकर निर्णय लेगा। उन्होंने कहा कि हम बहुत अच्छे सहयोगी की तरह रहे हैं। इससे ज्यादा अच्छे नहीं हो सकते। अपना दल की मांगें हैं कि सरकारी वकीलों की नियुक्तियां व पिछड़ा-महिला आयोग में भी उनके लोगों की भागीदारी हो। उन्होंने कहा कि सवर्णों को 10 फीसद आरक्षण के मुद्दे पर सबका साथ मिला और इसे कानून का रूप दिया जा सका। उन्होंने कहा अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों को 27 फीसद आरक्षण को अब 56 फीसद आबादी के हिसाब से होना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App