scorecardresearch

Tiranga Yatra: कानपुर में आपस में भिड़े BJP के वर्कर, जमकर चले लात घूंसे तो लोगों ने ऐसे लिए मजे

कानपुर में निकाली गई तिरंगा यात्रा में बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच हुईं भिड़ंत पर एक ट्विटर यूजर ने मजे लेते हुए कहा कि जी भर कर लड़ो समाप्त कर दो एक-दूसरे को।

Tiranga Yatra: कानपुर में आपस में भिड़े BJP के वर्कर, जमकर चले लात घूंसे तो लोगों ने ऐसे लिए मजे
कानपुर में तिरंगा यात्रा के दौरान आपस में भिड़े बीजेपी कार्यकर्ता (फोटो- ट्विटर वीडियो ग्रैब/ @news24tvchannel)

आजादी के अमृत महोत्सव पर हर घर तिरंगा अभियान के तहत भारतीय जनता पार्टी ने कानपुर में बुधवार (10 अगस्त, 2022) को तिरंगा यात्रा निकाली। इस दौरान कुछ बीजेपी कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए और विवाद इतना ज्यादा बढ़ गया कि एक-दूसरे के बाल खींचते नजर आए।

बता दें कि केंद्र की मोदी सरकार ने आजादी के अमृत महोत्सव पर हर घर तिरंगा मुहीम शुरू की है। इस मुहीम में लोग काफी उत्साह के साथ हिस्सा ले रहे हैं। उत्तर प्रदेश के लोगों में भी इसे लेकर काफी उत्साह है। इसी के तहत कानपुर में तिरंगा यात्रा निकाली गई, जिसमें बड़ी संख्या में बीजेपी कार्यकर्ता शामिल हुए। इस भीड़ में ही कुछ बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच कुछ विवाद हुआ और एक-दूसरे पर जमकर लात-घूसे चलाए। इसका वीडियो सामने आने के बाद लोग खूब मजे ले रहे हैं। आदित्य गुप्ता नाम के एक यूजर ने कहा कि जी भर कर लड़ो समाप्त कर दो एक-दूसरे को।

राजस्थानी रैयत नाम के एक ट्विटर यूजर ने लिखा, “नीतीश कुमार जी ने झटका तो दिया है बिहार बीजेपी को और चक्कर आ रहे हैं यूपी बीजेपी को!यही हवा दूसरे राज्यों में पहुंच सकती है!”

मौनी नाम के एक यूजर ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “हम आपस मे लड़ बैठे तो देश को कौन संभालेगा। कोई बाहर वाला अपने घर से हमें निकलेगा। दीवानो होश करो। मेरे देश प्रेमियो आपस में प्रेम करो देश प्रेमियो। मेरे देश प्रेमियो आपस मे प्रेम करो देश प्रेमियो।”

सुनील रमन नाम के एक और यूजर ने कार्यकर्ताओं पर भड़कते हुए कहा, “एक दूसरे से लड़ते हुए इन लोगों को तिरंगे का भी ध्यान न रहा! इन लोगों के भरोसे देश अमृत महोत्सव मनायेगा!”

एक यूजर @rudrendra1113 ने कहा, “धूम कुसंगति कारिख होई इन्हें सही चुनाव कर मूल शाखा मे वापस लौटना चाहिए। कांग्रेस इस समय राहुल गांधी जी के नेतृत्व में कुशलता से इनका मार्ग प्रशस्त कर सकती है। चिंतन करना ही होगा। यह समय की मांग है।”

अनिरुद्ध नाम के एक और यूजर ने कहा, “गोडसे वादी लोग हर जगह हिंसा करते रहते हैं। वैसे भी जब तिरंगा लेकर चलने पर अंग्रेजों से लाठी, गोली मिलती थी तो यह घरों में दुबके रहते थे आज नकली देशभक्त बने घूम रहे हैं।”

रवि सिसोदिया नाम के एक यूजर ने लिखा, तिरंगा प्रेम, शांति, अमन, सद्भाव, भाईचारे का प्रतीक है… ये तो कभी सोचा ही नहीं इन्होंने।”

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.