ताज़ा खबर
 

लेह काउंसिल चुनाव: भाजपा आधी से भी ज्यादा सीटों पर जीती, पहली बार हुआ था ईवीएम का इस्तेमाल

भाजपा की जीत के बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ट्वीट कर लद्दाख के लोगों का आभार व्यक्त किया। नड्डा ने ट्वीट कर पार्टी कार्यकर्ताओं को भी इस जीत की बधाई दी। उन्होंने इस जीत को ऐतिहासिक बताया।

BJP, Leh election, bjp won in lehभाजपा ने पिछली बार 18 सीटों पर जीत हासिल की थी। (फाइल फोटोः पीटीआई)

केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद (LAHDC) के लिए हुए छठे चुनाव के नतीजों की घोषणा हुई। भाजपा ने कुल 26 में से 15 सीटों पर जीत हासिल की। कांग्रेस को 9 सीटों पर जीत मिली है। जबकि दो सीट निर्दलीय के हिस्से में गई है।

केंद्रशासित प्रदेश बनने के बाद लद्दाख में स्वायत्त विकास परिषद् का यह पहला चुनाव था। इन चुनावों में पहली बार ईवीएम का प्रयोग किया गया था। भाजपा की जीत पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर कहा, ‘‘लेह स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद के चुनाव में भाजपा की शानदार जीत साफ तौर पर दर्शाती है कि लद्दाख का दृढ़ विश्वास भाजपा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ है। मैं लद्दाख की जनता को विकास और समृद्धि का चयन करने के लिए धन्यवाद देता हूं और साथ ही भाजपा कार्यकर्ताओं को भी बधाई देता हूं।’’

इससे पहले पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ट्वीट कर लद्दाख के लोगों का आभार व्यक्त किया। नड्डा ने ट्वीट कर पार्टी कार्यकर्ताओं को भी इस जीत की बधाई दी। उन्होंने इस जीत को ऐतिहासिक बताया। वहीं, पार्टी के नेता राम माधव ने भी ट्वीट कर भाजपा की लद्दाख ईकाई को बधाई जीत की बधाई दी।

इस चुनाव के लिए 23 तारीख को मतदान हुआ था। इसमें कुल 54 हजार से अधिक (65 फीसदी) मत पड़े थे। भाजपा और कांग्रेस दोनों ने 26-26 सीटों पर चुनाव लड़ा था। इसके अलावा 23 निर्दलीय उम्मीदवार भी चुनाव मैदान में अपना भाग्य आजमाने उतरे थे। खास बात है कि आम आदमी पार्टी की तरफ से 19 उम्मीदवार चुनावी रण में थे।

दूसरी तरफ नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी समेत अन्य दलों ने इस चुनाव से दूर रहने का फैसला किया था।   केंद्र की एनडीए सरकार की तरफ से पिछले साल 5 अगस्त को अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के बाद यहां पहली बार चुनाव हो रहे थे। ऐसे में इन चुनावों को भाजपा की प्रतिष्ठा से भी जोड़ कर देखा जा रहा था।

माना जा रहा था कि यदि भाजपा फिर से जीत हासिल करती है तो उसे अपनी सरकार के फैसले पर लोगों का समर्थन हासिल होगा। इससे पहले 2015 में हुए चुनाव में भाजपा ने 26 में से 18 सीटों पर जीत हासिल की थी। वहीं, कांग्रेस को 5 सीटों पर जीत मिली थी।

हालांकि, 2015 से पहले परिषद में कांग्रेस का ही वर्चस्व रहा था। अब चुनाव से जुड़ी पूरी प्रक्रिया 30 अक्टूबर तक पूरी हो जाएगी। मालूम हो कि एलएएचडीसी में 30 सीटें हैं। शेष 4 सीटों पर सरकार की तरफ से सदस्य नामित किए जाएंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गुजरात उपचुनावः वडोदरा में डिप्टी सीएम नितिन पटेल पर फेंकी चप्पल, मीडिया से कर रहे थे बातचीत
2 बिहार चुनावः राजद से 4 गुना महंगा है जदयू का टिकट, बोले संदेश विधानसभा सीट से नीतीश की पार्टी के उम्मीदवार
3 यूपी में गोहत्या निरोधक कानून का हो रहा दुरुपयोग! इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा- निर्दोषों को फंसाया जा रहा
यह पढ़ा क्या?
X