ताज़ा खबर
 

राजस्‍थान: नरेंद्र मोदी की रैली के लिए लोगों को पीले चावल देगी भाजपा, इस महीने आएंगे पीएम

सेल के सह-प्रमुख आशीष गुप्ता ने कहा कि चार मार्च को सीकर और झुंझनू में प्रदेशस्तरीय बैठक का आयोजन किया जाएगा। इसके अलावा सात मार्च को झुंझनू में वाहन रैली निकाली जाएगी जिसमें लोगों को पीले चावल प्रदान कर मोदी की रैली में आने का न्यौता दिया जाएगा।

Author , जयपुर | March 1, 2018 14:30 pm
राजस्थान में मार्च महीने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली होनी है।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) राजस्थान में इस महीने प्रधानमंत्री की रैली में आने के लिए लोगों को पीले चावल भेंट कर आमंत्रित करेगी। यह बात भाजपा प्रदेश इकाई के एक पदाधिकारी ने बुधवार को बताई। जयपुर में एक बैठक में भाजपा की ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ सेल की अध्यक्ष मीना असोपा ने सभी सदस्यों से प्रधानमंत्री की रैली में पहुंचने का आग्रह किया। सेल के सह-प्रमुख आशीष गुप्ता ने कहा कि चार मार्च को सीकर और झुंझनू में प्रदेशस्तरीय बैठक का आयोजन किया जाएगा। इसके अलावा सात मार्च को झुंझनू में वाहन रैली निकाली जाएगी जिसमें लोगों को पीले चावल प्रदान कर मोदी की रैली में आने का न्यौता दिया जाएगा।

असोपा ने संबद्ध सदस्यों को चित्रकारी, वाहन रैली, रसोई पकाने व वाद-विवाद आदि कार्यक्रमों का आयोजन कर लोगों को ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ का संदेश देने का निर्देश दिया। दूसरी तरफ, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक में लोकसभा और राज्य विधानसभा चुनाव एक साथ कराने पर आम सहमति बनाने के मुद्दे पर चर्चा की गई, साथ ही 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले सरकार की महत्वाकांक्षी गरीब कल्याणकारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाने के लिए कड़ी मेहनत करने पर जोर दिया गया। मुख्यमंत्रियों से 2019 के लोकसभा चुनाव के लिये व्यापक योजना के साथ तैयार रहने को भी कहा गया।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने बुधवार को संवाददाताओं से कहा, ‘‘बैठक में लोकसभा और राज्य विधानसभा चुनावों को एक साथ कराने के विषय पर चर्चा की गई। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने लोकसभा और राज्य विधानसभा चुनाव साथ कराने के बारे में हमारे विचारों को सुना।’’ यह विचार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आगे बढ़ाया है जो देश के लिए काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि साल भर कहीं न कहीं चुनाव होते हैं और आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू होने से विकास कार्य प्रभावित होता है।

बैठक में प्रधानमंत्री ने इसकी जरूरत को रेखांकित किया। राज्यों से पहले ही कहा गया है कि इस विषय पर जागरूकता फैलाए और दूसरे दलों के नेताओं के साथ चर्चा करें। भाजपा मुख्यालय में बुधवार को पांच घंटे से ज्यादा चली बैठक के बाद देर रात सिंह ने कहा था, ‘‘हमने सुशासन के मुख्य बिंदुओं पर चर्चा की और मुख्यमंत्रियों ने बताया कि वे इस दिशा में काम कर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि अगले वर्ष तक हर घर में बिजली पहुंचाने और 2022 तक सभी परिवारों को घर मुहैया कराने की भी समीक्षा की गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App