ताज़ा खबर
 

बीजेपी की ‘मंदिर राजनीति’ को कांग्रेस का जवाब: बघेल सरकार राम के ननिहाल का 16 करोड़ में कराएगी कायाकल्प, कमलनाथ करवाएँगे हनुमान चालीसा पाठ

सीएम भूपेश बघेल के अनुसार, चंदखुरी में प्राचीन कौशल्या मंदिर के आसपास के पूरे क्षेत्र को धार्मिक उपयोग के क्षेत्र में विकसित करके धार्मिक पर्यटन स्थल बनाया जाएगा। झील के केंद्र में स्थित प्राचीन मंदिर तक पहुंचने के लिए श्रद्धालुओं के लिए एक नया हाई-टेक पुल का निर्माण किया जाएगा।

BJP, Ram temple, Chhatisgarh, CM Bhupesh Baghel,श्रीराम के ननिहाल चांदखुरी गांव का बघेल सरकार 16 करोड़ रुपये में कायाकल्प कराएगी। (फाइल फोटो)

बीजेपी की ‘मंदिर राजनीति’ लेकर छत्तीसगढ़ में कांग्रेस भी जवाबी ताल ठोक रही है। छत्तीसगढ़ के सीएम ने इसके जवाब में श्रीराम के ननिहाल चंदखुरी को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की योजना बनाई है।

वहीं, उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर के 5 अगस्त के भूमि पूजन से एक दिन पहले कांग्रेस की मध्य प्रदेश इकाई बड़े पैमाने पर कार्यक्रम की योजना बना रही है। पूर्व सीएम कमलनाथ ने घोषणा की है कि वह 4 अगस्त को भोपाल में अपने निवास पर ‘हनुमान चालीसा’ का पाठ आयोजित करेंगे। इसके अलावा, राज्य में कांग्रेस कैडर भी सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करते हुए मध्य प्रदेश में अपने घरों या आस-पास के मंदिरों में इसी तरह का पाठ करेंगे।

मालूम हो कि चंदखुरी माता कौशल्या की जन्मस्थली है। योजना में चंदखुरी समेत 8 स्थानों को चुना गया है। 135 करोड़ रुपये की इस परियोजना के लिए 15 करोड़ रुपये जारी भी किए जा चुके हैं।  छत्तीसगढ़ त्रेतायुग में दक्षिण कौसल और दण्डकारण्य के रूप में विख्यात था। इस बात की पुष्टि वाल्मीकि रामायण में भी होती है।

श्रीराम के ननिहाल का बघेल सरकार 16 करोड़ रुपये में कायाकल्प कराएगी। राजधानी रायपुर के पास स्थित इस गांव में कौशल्या माता का मंदिर भी है। चंदखुरी पहले से ही छत्तीसगढ़ सरकार की ‘राम वन गमन पथ योजना ’का हिस्सा हैं। इसके तहत भगवान राम, उनकी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के निर्वासन में समय बिताने वाले सभी स्थानों को धार्मिक पर्यटन के स्थलों में विकसित किया जाएगा।

सीएम भूपेश बघेल के अनुसार, चंदखुरी में प्राचीन कौशल्या मंदिर के आसपास के पूरे क्षेत्र को विकसित करके धार्मिक पर्यटन स्थल बनाया जाएगा। झील के केंद्र में स्थित प्राचीन मंदिर तक पहुंचने के लिए श्रद्धालुओं के लिए एक नया हाई-टेक पुल का निर्माण किया जाएगा।

इस पुल का डिजाइन ऐसा होगा जिससे यह आभास दिया जा सके कि इसे हाथ से बनाया गया है। इसके अलावा, झील के चारों तरफ एक पैदल ट्रैक बनाया जाएगा ताकि भक्त मंदिर के चारों ओर चक्कर लगा सकें।

झील के सामने खाली जगह पर कार पार्किंग के निर्माण के अलावा मंदिर के स्थल पर एक लाइट एंड साउंड शो भी स्थापित किया जाएगा। चंदखुरी में इस स्थान पर खाने पीने संबंधी जंक्शन निर्माण के लिए भी जगह आवंटित की जाएगी।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिल्ली दंगा: पूर्व JNU छात्र उमर खालिद से तीन घंटे पूछताछ, फिर फोन लेकर चली गई पुलिस
2 दिल्ली में कोरोना काबू में! एक महीने में एक-तिहाई रह गए एक्टिव केस, संक्रमण दर 0.66 फीसदी
3 COVID-19 पर अब डरा रहा आंध्र! जुलाई में बढ़े 865% केस; माह भर में साढ़े 14 हजार से हो गए 1.25 लाख मामले
ये पढ़ा क्या?
X