ताज़ा खबर
 

आदित्य ठाकरे के नाम पर एक नया बवाल, बीजेपी ने उठाया पद्म अवार्ड पैनल में शामिल किए जाने पर सवाल

शिवसेना नीत राज्य की गठबंधन सरकार के 11 अगस्त को प्रकाशित एक प्रस्ताव में कहा गया है कि केंद्र ने राज्य सरकार को अगले साल 26 जनवरी 2021 के अवसर पर घोषित किए जाने वाले पद्म पुरस्कारों के लिए नामों की सिफारिश करने का निर्देश दिया है।

नई दिल्ली | August 13, 2020 10:48 AM
शिवसेना नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री आदित्य ठाकरे। (पीटीआई)

महाराष्ट्र सरकार ने अगले साल गणतंत्र दिवस के अवसर पर घोषित किए जाने वाले पद्म पुरस्कारों के सिलसिले में राज्य के परिवहन मंत्री आदित्य ठाकरे की अध्यक्षता में एक समिति गठित की है। यह समिति इन पुरस्कारों के लिए सभी क्षेत्रों से हस्तियों के नामों की सिफारिश करेगी। वहीं, भाजपा ने इस घटनाक्रम का विरोध करते हुए कहा कि आदित्य इस समिति की अध्यक्षता के लिए योग्य नहीं हैं क्योंकि एक अदालती मामले में उनका नाम सामने आया है।

शिवसेना नीत राज्य की गठबंधन सरकार के 11 अगस्त को प्रकाशित एक प्रस्ताव में कहा गया है कि केंद्र ने राज्य सरकार को अगले साल 26 जनवरी 2021 के अवसर पर घोषित किए जाने वाले पद्म पुरस्कारों के लिए नामों की सिफारिश करने का निर्देश दिया है। प्रस्ताव में कहा गया है कि इसी के मुताबिक नौ सदस्यीय एक समिति गठित की गई है, जिसके अध्यक्ष आदित्य ठाकरे होंगे। आदित्य प्रोटोकॉल और पर्यावरण मंत्री भी हैं।

इस बीच, महाराष्ट्र विधान परिषद में विपक्ष के नेता प्रवीण दारेकर ने कहा कि राज्य मंत्रिमंडल में ऐसे कई मंत्री हैं, जो समिति की अध्यक्षता कर सकते हैं। भाजपा नेता ने अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत प्रकरण का सीधे जिक्र नहीं किया लेकिन कहा, ‘आदित्य का नाम अदालती मामले में सामने आया है। ऐसे व्यक्ति को किसी समिति की अध्यक्षता नहीं करनी चाहिए।’

Weather Forecast Today Live Updates

उल्लेखनीय है कि सुशांत प्रकरण में मंगलवार को उच्चतम न्यायालय में दलील पेश करते हुए बिहार की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता मनिंदर सिंह ने कहा था कि पटना में दर्ज प्राथमिकी विधि सम्मत एवं वैध है। उन्होंने यह दलील दी कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ आरोप मीडिया में आई खबरों के आधार पर लगाए गए, लेकिन महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री (उद्धव ठाकरे) के बेटे की कथित भूमिका की भी खबरें हैं।

दिवंगत अभिनेता के पिता के के सिंह द्वारा दर्ज कराई गई इस प्राथमिकी में अदाकारा रिया चकवर्ती पर यह आरोप लगाया गया था कि उन्होंने सुशांत को आत्महत्या के लिये मजबूर किया था। अभिनेता का शव बांद्रा स्थित उनके आवास में 14 जून को फंदे पर लटका हुआ मिला था। आदित्य ने कहा था कि वह और उनके परिवार को सुशांत की मौत के मामले में बेवजह निशाना बनाया जा रहा है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया था कि इस विषय से उनका कोई संबंध नहीं है।

Next Stories
1 Coronavirus : 24 घंटे में इन पांच राज्यों में हुई 731 मौतें, देश में आए 64,553 नए मामले
2 तीन साल में यूपी पुलिस ने किए 6,476 एनकाउंटर्स, मरने वाले 37% मुस्लिम- रिपोर्ट में दावा
3 चार महीने की बेकारी के बाद फिर दिल्ली लौट रहे प्रवासी मजदूर, पर कंपनियां नहीं दे रहीं रोजगार, कहां से भरें परिवार का पेट?
ये पढ़ा क्या?
X