ताज़ा खबर
 

नॉर्थ ईस्ट में गौहत्‍या और बीफ ब‍िक्री पर भाजपा को आपत्ति नहीं, कहा- जीते तो बीफ और गौहत्या पर नहीं होगी रोक

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने ऐलान किया है कि अगर नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में वह सत्ता में आएगी तो बीफ बैन नहीं करेगी।

Author Published on: March 28, 2017 1:49 PM
नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में गौहत्या पर रोक नहीं है।

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने ऐलान किया है कि अगर नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में वह सत्ता में आएगी तो बीफ बैन नहीं करेगी। नॉर्थ ईस्ट के तीन राज्यों में अगले साल चुनाव होने हैं। वहां रहने वाले ज्यादातर लोग ईसाई धर्म को मानने वाले हैं। इसको देखकर ही यह ऐलान किया है। वहां पर मेघालय, मिजोरम और नागालैंड में ईसाईयों की संख्या बहुत ज्यादा है और वे सभी लोग बीफ खाते हैं। बीजेपी ने उत्तर प्रदेश में सरकार बनाने के बाद वहां अवैध बूचड़खानों पर कार्रवाई शुरू की। उस वजह से पार्टी की इमेज बीफ विरोधी बन गई। बीजेपी पहले से भी गौ हत्या और गौ मांस के विरोध में रही है। इस वजह से नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में बीजेपी प्रमुखों को अपनी पार्टी के बचाव में बयान बाजी करनी पड़ रही है।

हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक, बीजेपी के मेघालय युनिट के महासचिव डेविड खारस्ती ने एक बयान जारी करके कहा, ‘अगर हमारी पार्टी सरकार बनाती है तो यूपी में गौ हत्या पर लगे बैन का नागालैंड पर कोई प्रभाव नहीं होगा। यहां पर स्थिति कुछ दूसरी है और हमारी पार्टी के सीनियर और केंद्रीय नेताओं को इस बात के बारे में पता है।’ उन्होंने यह भी कहा कि कुछ लोग नीहित स्वार्थ के लिए पार्टी के खिलाफ गलत बातें फैला रहे हैं।

मिजोरम में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष जीवी हलुना ने कहा, ‘इस क्षेत्र में ज्यादातर जनसंख्या ईसाईयों की है इसलिए यहां पर गौ हत्या पर पाबंदी नहीं लगेगी।’ इसके अलावा मेघालय में बीजेपी प्रमुख सिबुन लिंगोह ने कहा, ‘यूपी में भी उन बूचड़खानों के खिलाफ कार्रवाई हो रही है जो गलत तरीके से चल रहे हैं। लेकिन वहां भी गौ हत्या पर पाबंदी नहीं है।’

नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में से मेघालय और मिजोरम में कांग्रेस की सरकार है। वहीं नागालैंड में भाजपा ने गठबंधन के साथ सरकार बनाई हुई है। हाल में मणिपुर में हुए विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा ने सरकार बना ली है। वहां पहले कांग्रेस की सरकार थी। असम में बीजेपी पिछले साल जीती थी। इसके अलावा अरुणाचल प्रदेश में भी बीजेपी ने 2016 में राजनीतिक उठा-पटक के बाद सरकार बनाई थी।

2013 में हुए चुनाव में बीजेपी मेघालय (60 सीट) और मिजोरम (40 सीट) में से एक भी नहीं जीत पाई थी। वहीं नागालैंड में पार्टी को सिर्फ दो सीट से संतोष करना पड़ा था। 2011 की जनगणना के मुताबिक, नागालैंड में कुल 20 लाख लोग रहते हैं जिसमें से 88 प्रतिशत लोग ईसाई धर्म के हैं। वहीं मिजोरम में 87 प्रतिशत और मेघालय में 75 प्रतिशत ईसाई हैं। वहां पर गौहत्या पर पाबंदी नहीं है।

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 कोल्‍हापुर में लहराएगा देश का दूसरा सबसे बड़ा तिरंगा, 300 फुट की ऊंचाई पर फहरेगा राष्‍ट्रीय ध्‍वज
2 योगी आदित्‍य नाथ के गुरुभाई थे गुजरात में जन्‍मे मुस्लिम गुल मोहम्‍मद पठान उर्फ महंत गुलाबनाथ, अंत समय तक बना रहा करीबी नाता
3 जम्मू-कश्मीर: बडगाम जिले में आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़, दो लोगों की मौत, 17 घायल