ताज़ा खबर
 

भाजपा कार्यकर्ताओं ने किया केजरीवाल के घर के बाहर प्रदर्शन, दी गिरफ्तारियां

पार्षदों और महापौरों ने आरोप लगाया कि सरकार ने अभी तक चौथे वित्त आयोग की रिपोर्ट लागू नहीं की है जिसके कारण सभी भाजपा नियंत्रित नगर निकायों को फंड की समस्या का सामना करना पड़ रहा है।
Author नई दिल्ली | June 9, 2016 01:44 am
भाजपा पार्षदों ने दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल के घर के बाहर प्रदर्शन किया और गिरफ्तारियां दीं।

दिल्ली की केजरीवाल सरकार को नगर निगम से जुड़े मुद्दों पर करारा जवाब देने के लिए भाजपा ने इस बार पूरी तैयारी कर ली है। दिल्ली की केजरीवाल सरकार भाजपा शासित तीनों नगर निगमों को लेकर आगामी गुरुवार को दिल्ली विधानसभा का विशेष सत्र बुला रही है। केजरीवाल सरकार सदन में भाजपा शासित निगमों की नाकामियों का बखान करेगी। इस बार भाजपा ने केजरीवाल सरकार को इस मामले में घेरने की पूरी तैयारी कर ली है।

बुधवार की सुबह भाजपा के निगम पार्षदों ने केजरीवाल के निवास पर प्रदर्शन किया और फिर बाद में गिरफ्तारी दी। भाजपा शासित तीनों नगर निगम दिल्ली के रामलीला मैदान में गुरुवार को दोपहर में तीनों निगमों की संयुक्त बैठक बुलाएंगे। उस बैठक में आम आदमी पार्टी की केजरीवाल सरकार के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया जाएगा। दिल्ली भाजपा केजरीवाल सरकार के खिलाफ दिल्ली विधानसभा पर व्यापक प्रदर्शन करेगी।

बुधवार को दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने केजरीवाल सरकार के खिलाफ आरोपों की झड़ी लगा दी। विपक्षी दल भाजपा आगामी गुरुवार सदन में केजरीवाल सरकार के खिलाफ कार्य स्थगनादेश प्रस्ताव भी लेकर आएगी। बुधवार को सुबह भाजपा पार्षदों ने केजरीवाल के आवास के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। तीन महापौरों के नेतृत्व में भाजपा नीत एमसीडी के कई पार्षदों ने ‘आप’ सरकार की ओर से उनकी बकाया राशि जल्द जारी किए जाने की मांग करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर बुधवार को विरोध प्रदर्शन किया।

भाजपा पार्षदों ने विरोध प्रदर्शन के दौरान केजरीवाल सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और नगर निकायों की कार्यप्रणाली पर चर्चा करने के लिए दिल्ली विधानसभा का दो दिवसीय विशेष सत्र आहूत करने के लिए उसकी निंदा की और कहा कि ऐसा नगर निगमों को ‘नीचा दिखाने’ के इरादे से किया गया।

पार्षदों और महापौरों ने आरोप लगाया कि सरकार ने अभी तक चौथे वित्त आयोग की रिपोर्ट लागू नहीं की है जिसके कारण सभी भाजपा नियंत्रित नगर निकायों को फंड की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने पार्षदों और तीन महापौरों को शांत करने की कोशिश की लेकिन वे नहीं माने। इसके बाद पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया और वह उन्हें निकटवर्ती पुलिस थाने ले गई जहां से उन्हें कुछ देर बाद रिहा कर दिया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App